हमारे बारे में

द क्विंट

द क्विंट मतलब समझदारी और जिम्मेदारी से भरपूर मीडिया। द क्विंट मतलब मोबाइल फोन का मीडिया - जो तेज है और जिसकी पहुंच समाज के हर तबके तक है। द क्विंट लोकप्रिय डिजिटल जर्नलिज्म का एक ऐसा ठिकाना है, जहां गंभीर से गंभीर खबर को भी आसान शब्दों में पिरोया जाता है, फिर लोगों तक पहुंचाया जाता है। द क्विंट दुनिया के हर हिस्से पर नजर रखता है और अपने आधुनिक दृष्टिकोण के जरिए लोगों को नीति से लेकर राजनीति, मनोरंजन से लेकर बिजनेस, खान-पान से लेकर उन सभी चीजों के बारे में सूचित करता है, जो जीवन पर असर डालती हैं। कंटेंट, टेक और डिस्ट्रीब्यूशन के एक अनोखे कॉम्बो के साथ हम डिजिटल जर्नलिज्म,स्टोरी टेलिंग और ऐडवर्टाइजिंग में लागातार नई ऊंचाइयों की तरफ बढ़ रहे हैं।

हमारी टीम

Raghav

राघव बहल, संस्थापक

राघव बहल एक ऐसे उद्यमी और निवेशक हैं, जिन्हें कई कंपनियों को शुरू करने और सफलतापूर्वक उनका संचालन करने का श्रेय हासिल है। भारत के सबसे बड़े मीडिया ग्रुप नेटवर्क 18 की स्थापना और प्रसार के अलावा राघव ने मनीकंट्रोल.कॉम, बुकमाइशो.कॉम, फर्स्टपोस्ट.कॉम, यात्रा.कॉम जैसी तमाम कंपनियों की आधारशिला रखी।

सेंट स्टीफंस में इकनॉमिक्स की पढ़ाई के दौरान ही राघव बहल ने टेलीविजन न्यूज कैप्सूल्स का निर्माण शुरू कर दिया था। उन्होंने एफएमएस, दिल्ली से एमबीए किया, ए एफ फर्ग्यूसन में मैनेजमेंट कंसल्टेंट रहे और बाद में एमेक्स के लिए भी कुछ दिन के लिए काम किया। लेकिन समाचारों की दुनिया ही उनकी असली दुनिया थी, जिसके लिए उन्होंने इंटरनेशनल बैंकिंग के आसान सफर को ठुकराकर नेटवर्क 18 की स्थापना की और इसे भारत की सबसे बड़ी मीडिया कंपनियों में से एक बना दिया। राघव ने दुनिया के कुछ दिग्गज मीडिया ब्रैंड्स के साथ भी लंबे वक़्त तक चलने वाले, कामयाब साझेदारी की। इन मीडिया ब्रैंड्स में सीएनबीसी, वायाकॉम, बीबीसी, स्टार टीवी, एऐंडई, टाइम वॉर्नर और फोर्ब्स जैसे नाम शामिल हैं।

अब जबकि ऑडियंस धीरे-धीरे टीवी से हटकर डिजिटल मीडिया की तरफ रुख कर रही है, राघव ने भी डिजिटल मीडिया में कुछ बड़ा करने की ठानी है।

राघव ने ‘सुपरपावर: द अमेजिंग रेस बिटविन चाइनाज हेयर एंड इंडियाज टॉरटॉइज’ नाम से एक किताब भी लिखी है। वह फिलहाल अपनी दूसरी किताब पर काम कर रहे हैं, जो भारत, चीन और अमेरिका के बीच के सत्ता समीकरणों के बारे में होगी।

Ritu

रितु कपूर, सह-संस्‍थापक

रितु कपूर द क्विंट की सह-संस्थापक हैं। वह हिस्ट्री चैनल में बतौर प्रोग्रामिंग हेड और सीएनएन आईबीएन में बतौर फीचर एडिटर अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। सीएनएन आईबीएन में उन्होंने लोकप्रिय सीजे (सिटिजन जर्नलिस्ट) शो सहित तमाम प्रोग्राम शुरू किए थे। उन्होंने वास्तविक घटनाओं पर आधारित 'भंवर' नाम के एक डॉक्यु-ड्रामा का भी निर्माण किया है। उनके कार्यक्रम काफी लोकप्रिय हुए और उन्हें आलोचकों की सराहना के साथ-साथ कई अवॉर्ड भी मिले। उन्होंने 'रजिस्टर टू वोट' और 'पावर ऑफ 49' जैसे सफल अभियान भी चलाए, जिसमें जनसंख्या के 49 प्रतिशत हिस्से का प्रतिनिधित्व करने वाली महिलाओं के लिए एक घोषणापत्र भी तैयार किया गया था।

रितु कपूर सोशल मीडिया और ऐप्स पर काफी सक्रिय रहती हैं और इन प्लेटफॉर्म्स पर तैरती खबरों के साथ-साथ विचारों पर भी अपनी पैनी निगाह रखती हैं। खान-पान से प्यार करने वाली रितु की पसंद खबरों के मामले में भी खाने जैसी ही है, उन्हें दोनों ही जगहों में कहीं भी एक्स्ट्रा फैट बर्दाश्त नहीं होता।

क्विंट हिंदी के साथ करियर

द क्विंट एक ऐसा परिवार है, जिसमें काम से प्यार करने वाले ऐसे क्रिएटिव लोग हैं, जो चुनौतियों से प्यार करते हैं और अपने काम को लेकर खुशी और गर्व का अनुभव करते हैं। हमारी टीम के सदस्य अर्थशास्त्र, साहित्य, टेक्नोलॉजी, फोटोग्राफी, स्पोर्ट्स, ऐक्टिविजम जैसी तमाम पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखते हैं।

हम सभी इंटरनेट से और अपने काम से बेहद प्यार करते हैं। और हां, हम तो बताना ही भूल गए कि हमारे यहां आपको कुछ शानदार मैक कंप्यूटर्स मिलेंगे।

यदि आप हमारी इस टीम से जुड़ना चाहते हैं, तो हमें jobs@thequint.com पर अपने बारे में बताएं।

आप हमसे hindi@thequint.com के जरिए भी जुड़ सकते हैं।