धनतेरस: सोना चमका ,ज्वेलर्स को अच्छी बिक्री होने की उम्मीद

अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी डॉलर के सुस्त पड़ने से पीली धातु एक बार फिर चमकी है

Updated
बिजनेस न्यूज
3 min read
सांकेतिक तस्वीर
i

धनतेरस के शुभ मुहूर्त की खरीदारी से पहले देश के सर्राफा बाजार में गुरुवार को सोने और चांदी के भाव में तेजी बनी हुई थी. अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी डॉलर के सुस्त पड़ने से पीली धातु एक बार फिर चमकी है जिससे घरेलू वायदा बाजार में सोने के भाव में करीब एक फीसदी का उछाल आया है.

देश के सबसे बड़े वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर रात 9.11 बजे सोने के दिसंबर एक्सपायरी अनुबंध में बीते सत्र से 539 रुपये यानी 1.07 फीसदी की तेजी के साथ 50,708 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था. वहीं, एमसीएक्स पर चांदी के दिसंबर अनुबंध में बीते सत्र से 409 रुपये यानी 0.65 फीसदी की तेजी के साथ 62,950 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था.

इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के अनुसार, हाजिर बाजार में 999 शुद्धता के सोने का भाव 50,702 रुपये प्रति 10 ग्राम (बिना जीएसटी) जबकि 995 शुद्धता के सोने का भाव 50,499 रुपये प्रति 10 ग्राम था.

धनतेरस शुक्रवार को है और आभूषण कारोबारियों को धनतेरस पर सोने और चांदी के आभूषणों की अच्छी बिक्री होने की उम्मीद है, क्योंकि कोरोना महामारी के चलते आभूषणों की दुकानें काफी समय तक बंद रहने के कारण लोग पसंद के आभूषण नहीं खरीद पाए. इसलिए, ज्वेलर्स इस धनतेरस के शुभ-मुहूर्त में महंगी धातुओं की खरीदारी बढ़ने की आस लगाए बैठे हैं.

आईबीजेए के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता का अनुमान है कि इस बार धनतेरस पर सोने की खरीदारी में पिछले साल के मुकाबले 20 फीसदी का इजाफा हो सकता है.

मेहता कहते हैं कि पिछले आठ महीने के दौरान लोगों को आभूषण खरीदने को लेकर जो दिक्कतें आई हैं उसकी कसर इस त्योहारी सीजन में पूरी हो जाएगी, क्योंकि आगे शादी का सीजन भी शुरू होने जा रहा है जिसके लिए लोग खरीदारी करेंगे.

उन्होंने कहा कि देश में धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियां भी पटरी पर लौट रही हैं, जो ज्वेलरी इंडस्ट्री के लिए अच्छी खबर है.

मेहता ने बताया कि इस बार ज्वेलर्स ने सोने और चांदी की खरीद पर जीरो मेकिंग चार्ज के साथ-साथ, ग्राहकों के लिए इंस्टॉलमेंट स्कीम और आकर्षक उपहार भी रखे हैं.

जेम एंड ज्वेलरी ट्रेड काउंसिल ऑफ इंडिया (जीजेटीसीआई) के प्रेसीडेंट शांतिभाई पटेल का भी मानना है कि कोरोना काल में लॉकडाउन के कारण लोग आभूषण नहीं खरीद पाए हैं, इसलिए इस पर धनतेरस वे खूब खरीदारी करेंगे. उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों पहले बीते पुष्य नक्षत्र में भी अहमदाबाद में लोगों ने सोने और जांदी की अच्छी खरीदारी की.

अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने के दिसंबर अनुबंध में गुरुवार को बीते सत्र से 16.05 डॉलर यानी 0.86 फीसदी की तेजी के साथ 1,877.65 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था. कॉमेक्स पर चांदी के दिसंबर अनुबंध में बीते सत्र से 0.56 फीसदी की तेजी के साथ 24.40 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था.

केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि पिछले साल दिवाली के बाद से सोने में करीब 29.75 फीसदी की तेजी रही है, जबकि बीते सात अगस्त को सोने का भाव एमसीएक्स 56,191 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला था, जोकि रिकॉर्ड ऊंचा स्तर है.

वहीं, चांदी में पिछले साल के मुकाबले 35 फीसदी से ज्यादा तेजी आई है जबकि सात अगस्त को चांदी का भाव रिकॉर्ड 77,949 रुपये प्रति किलो तक उछला था.

उन्होंने कहा कि डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी से सोने को सपोर्ट मिला है. देसी करेंसी रुपये में डॉलर के मुकाबले पिछले साल दिवाली के बाद से अब तक करीब पांच फीसदी की कमजोरी आई है.

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!