सिटीबैंक ने गलती से भेजे $900 मिलियन, कोर्ट ने बताया ‘बड़ा ब्लंडर’ 

सिटीबैंक ने करीब 500 मिलियन डॉलर गंवा दिए हैं

Published
सिटीबैंक ने गलती से भेजे $900 मिलियन, कोर्ट ने बताया ‘बड़ा ब्लंडर’ 

अमेरिकी बैंक सिटीबैंक से पिछले साल बैंकिंग इतिहास की सबसे बड़ी गलतियों में से एक हुई थी. उसका नतीजा ये हुआ है कि सिटीबैंक ने करीब 500 मिलियन डॉलर गंवा दिए हैं. बैंक ने पिछले साल 900 मिलियन डॉलर गलती से कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन को उधार देने वालों को ट्रांसफर कर दिए थे.

इस मामले में सिटीबैंक ने कोर्ट का रुख किया था और पैसे वापस मांगने में मदद मांगी थी. लेकिन एक अमेरिकी कोर्ट ने सिटीबैंक के खिलाफ फैसला सुना दिया है. कोर्ट ने फैसले में इस पूरे मामले को 'बैंकिंग इतिहास की सबसे बड़ी गलतियों में से एक' बताया.

पिछले साल क्या हुआ था?

सिटीबैंक ने कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन के लोन एडमिनिस्ट्रेटिव एजेंट के तौर पर काम करते हुए अगस्त 2020 में 10 वित्तीय कंपनियों को 900 मिलियन डॉलर भेज दिए थे. इन कंपनियों के कंसोर्टियम ने रेवलॉन को टर्म लोन दिया था. असल में सिटीबैंक को इन्हें 8 मिलियन डॉलर के ब्याज का पैसा देना था.

हालांकि, बैंक ने गलती से 900 मिलियन डॉलर प्रिंसिपल अमाउंट इन कंपनियों को भेज दिया. इनमें से कुछ कंपनियों ने पैसा वापस कर दिया लेकिन कुछ ने नहीं किया.  

सिटीबैंक ने अगस्त 2020 में पैसा वापस लेने के लिए केस दर्ज कराया था. फिर भी बैंक को 500 मिलियन डॉलर नहीं मिल पाए.

कोर्ट ने क्या कहा?

मैनहैटन के यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के जज जेसी एम फर्मन ने अपने फैसले में कहा कि 'कर्ज देने वालों के पास पेमेंट को जानबूझकर किया गया समझने की वजह थी."

जज फर्मन ने कहा, “डिफेंडेंट्स को लगा कि पेमेंट रेवलॉन के कर्ज का किया गया है और इसलिए वो ये पैसा रख सकते हैं.” जज ने कहा कि कंपनियों का ऐसा सोचना जायज है क्योंकि रेवलॉन कोरोना वायरस महामारी के समय वित्तीय संकट में थी. 

सिटीबैंक इस फैसले के खिलाफ अपील करने का विचार कर रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!