मई के बाद बाजार में सबसे बड़ी गिरावट, सेंसेक्स 1500 पॉइंट टूटा

भारत समेत कई सारे देशों ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया है.

Updated
शेयर बाजार टूटा
i

हफ्ते के पहले कारोबारी दिन ही बाजार को झटका लगा है. यूके से कोरोना वायरस के नए स्ट्रेंस की खबर के बीच सेंसेक्स करीब 1500 प्वाइंट टूटा है, वहीं निफ्टी भी करीब 470 पॉइंट टूटा है. दोनों अहम इंडाइसेज करीब साढ़े 3-3 परसेंट टूटे हैं. बाजार टूटने की साफ वजह कोरोना वायरस का यूके में मिला नया स्ट्रेन है. ये स्ट्रेन मतलब कोरोना वायरस का नया स्वरूप है जो पहले के कोरोना वायरस से करीब 70% तेजी से फैल रहा है. ब्रिटेन ने इसकी वजह से लॉकडाउन लगा दिया है और लोगों को घरों में रहने के लिए कहा है. बाकी भारत समेत कई सारे देशों ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया है.

मई के बाद बाजार में सबसे बड़ी गिरावट, सेंसेक्स 1500 पॉइंट टूटा

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर ब्रिटेन से जो खबर आई है, उसने पूरी दुनिया में हड़कंप मचा दिया है और फिर से वैसी ही स्थितियां बनने लगी हैं जैसी महामारी की शुरुआत में बनी थीं. हालत ये है कि अब भारत सरकार ने यूके से इंडिया आने वाली सभी फ्लाइट्स पर 31 दिसंबर तक के लिए रोक लगा दी है. नागरिक उड्यन मंत्रालय ने बताया है कि ये बैन 22 दिसंबर की आधी रात से लागू होगा. इससे पहले सऊदी अरब भी इंटरनेशनल फ्लाइट्स को अपने देश में एंट्री देने से मना कर चुका है. कई यूरोपीय देश और कनाडा ने भी यूके से आने वाली फ्लाइट्स पर अस्थायी बैन लगाया है.

किन देशों ने लगाया UK से आने वाली फ्लाइट्स पर बैन?

  • यूरोप में- द नीदरलैंड्स, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, आयरलैंड, जर्मनी, इटली और फ्रांस ने यूके से आने वाली फ्लाइट्स पर बैन लगाया है.

  • वहीं, ग्रीस ने यूके से आने वाले सभी यात्रियों के लिए 7 दिन का क्वॉरन्टीन पीरियड अनिवार्य कर दिया है.

  • इजरायल, टर्की और कुवैत ने यूके जाने और वहां से आने वाली सभी फ्लाइट्स को रोक दिया है.

  • सऊदी अरब ने एक हफ्ते के लिए सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया है.

  • कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने ट्वीट में बताया कि अगले 72 घंटों तक के लिए, यूके से आने वाली सभी फ्लाइट्स पर प्रतिबंध रहेगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!