वॉट्सऐप लीक केसः SEBI ने दिया बाटा इंडिया को आंतरिक जांच का आदेश
सेबी ने तीन महीने में जांच पूरी करने के आदेश दिए
सेबी ने तीन महीने में जांच पूरी करने के आदेश दिए(फोटो: रॉयटर्स)

वॉट्सऐप लीक केसः SEBI ने दिया बाटा इंडिया को आंतरिक जांच का आदेश

मार्केट्स रेगुलेटर सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने सोमवार को बाटा इंडिया को अपना सिस्टम मजबूत करने की जिम्मेदारियों को तय करने के लिए एक आंतरिक जांच करने का आदेश दिया है. शुरुआती जांच में सामने आया है कि फर्म की क्वाटरली फाइनेंशियल रिपोर्ट और कीमतों से संबंधित जानकारी लीक हो रही थी.

सेबी के निर्देशों के मुताबिक, बाटा इंडिया को यह जांच तीन माह में पूरी करनी होगी और इसके बाद सात दिन के भीतर सेबी के पास इसकी रिपोर्ट जमा करानी होगी. सेबी के मुताबिक, फर्म के अक्टूबर-दिसंबर 2015 तिमाही से संबंधित वित्तीय आंकड़े आधिकारिक घोषणा से पहले ही लोगों की जानकारी में थे. बता दें कि पिछले साल कई लिस्‍टेड कंपनियों के शेयर प्राइस से जुड़ी जानकारी वॉट्सऐप मैसेज और सोशल मीडिया के जरिए सर्कुलेट हुई थी.

एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक और टाटा मोटर्स के बाद टाटा इंडिया ऐसी चौथी कंपनी है, जिसका हाई प्रोफाइल डेटा लीकेज केस में नाम आया है.

गोपनीय जानकारी वॉट्सऐप पर हो गई थी लीक

सेबी ने मीडिया में इस मामले को लेकर मीडिया में खबरें आने के बाद बीते नवंबर में जांच शुरू की थी. अपने आदेश में सेबी ने कहा कि ऐसा लगता है कि दिसंबर 2015 में समाप्त हुई तिमाही के परिणामों को कंपनी ने 11 फरवरी 2016 को वॉट्सऐप पर शेयर किए गए मैसेज से पहले 9 फरवरी 2016 या उससे पहले अंतिम रूप दे दिया गया था.

आदेश में कहा गया है कि वॉट्सऐप पर लीक आंकड़े और कंपनी के आधिकारिक तिमाही परिणामों के आंकड़े मेल खाते हैं. इससे ऐसा लगता है कि परिणामों की आधिकारिक घोषणा से पहले ही यह आंकड़े लोगों के बीच फैल चुके थे. इसे ध्यान में रखते हुए सेबी ने बाटा इंडिया से कहा है कि वह शेयर बाजार के नजरिए से संवेदनशील अप्रकाशित सूचनाओं के लीक होने का दोहराव रोकने के लिए अपने सिस्टम को मजबूत करे.

जिम्मेदार के खिलाफ करें कार्रवाई

बाटा इंडिया को सिस्टम मजबूत करने के लिए दिए गए निर्देशों के अलावा सेबी ने यह भी कहा है कि फर्म इस डेटा लीकेज की आंतरिक जांच कराए और जिम्मेदार व्यक्ति के खिलाफ उचित कार्रवाई करे. सेबी के निर्देशानुसार, जांच के दायरे में उन लोगों को भी रखा जाएगा, जिनकी पहुंच फर्म के गोपनीय डेटा तक होती है.

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our बिजनेस section for more stories.

    वीडियो