श्रीलंका में बना हुआ है संवैधानिक संकट
श्रीलंका में बना हुआ है संवैधानिक संकटफोटो: द क्विंट
  • 1. श्रीलंका में न पीएम, न मंत्री, न सरकार
  • 2. राष्ट्रपति ही संकट की जड़
  • 3. आजादी छिनने से छटपटा रही है संसद
  • 4. श्रीलंका संकट का भारत कनेक्शन
  • 5. श्रीलंका में संकट के पीछे चीन?
  • 6. क्या होगा आगे?
संसद बंद, PM बर्खास्त! आखिर श्रीलंका में हो क्या रहा है?

श्रीलंका में प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के भारत दौरे से लौटते ही राजनीतिक और संवैधानिक संकट शुरू हो गया था. रानिल विक्रमसिंघे बर्खास्त हो गए. उनकी जगह राष्ट्रपति ने महिन्द्रा राजपक्षे को प्रधानमंत्री नियुक्त कर दिया.

  • 1. श्रीलंका में न पीएम, न मंत्री, न सरकार

    श्रीलंका में प्रत्यक्ष तौर पर राजनीतिक संकट की शुरुआत 26 अक्टूबर को हुई. राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त कर दिया. राष्ट्रपति का दूसरा तत्काल फैसला था, उनकी जगह पूर्व राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे की बतौर प्रधानमंत्री नियुक्ति.

    संसद में महिंद्रा राजपक्षे को बहुमत नहीं था, लिहाजा राष्ट्रपति ने 27 अक्टूबर को 16 नवंबर तक के लिए संसद भी निलम्बित कर दिया.

    राजनीतिक संकट और गहरा गया जब स्पीकर कारु जयसूर्या ने 28 अक्टूबर को रानिल विक्रमसिंघे को देश के प्रधानमंत्री के तौर पर मान्यता दे दी. इस तरह अब श्रीलंका में एक साथ दो-दो प्रधानमंत्री हो गये.

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो