कोरोनावायरस: बिजली मांग 22% घटकर 1,27,960 मेगावाट रह गई
कोरोनावायरस: बिजली मांग 22% घटकर 1,27,960 मेगावाट रह गई
(प्रतीकात्मक फोटोः IANS)

कोरोनावायरस: बिजली मांग 22% घटकर 1,27,960 मेगावाट रह गई

देश में बिजली की अधिकतम मांग में बुधवार को करीब 22 प्रतिशत की कमी आयी और यह 1,27,960 मेगावाट रह गई जो 20 मार्च को 1,63,720 मेगावाट थी। बिजली की मांग में कमी कोरोना महामारी के बीच ‘लॉकडाउन’ के प्रभाव को बताती है।

वास्तविक रूप से देखा जाए तो एक सप्ताह में बिजली मांग में करीब 35,000 मेगावाट की कमी आयी है।

बिजली की अधिकतम मांग में कमी का कारण उद्योग और राज्य बिजली वितरण कंपनियों की तरफ से मांग का कम होना है। इसकी वजह देशव्यापी लॉकडाउन के कारण वाणज्यिक प्रतिष्ठानों और उद्योग में कामकाज का पूरी तरह ठप होना है।

सरकार ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिये 21 दिन के ‘लॉकडाउन’ की घोषणा की है।

मांग में कमी के कारण इंडियन एनर्जी एक्सचेंज में बुधवार की आपूर्ति के लिये बिजली दर तीन साल के न्यूनतम स्तर 60 पैसे प्रति यूनिट पर आ गयी।भाषा

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)


Follow our अभी - अभी section for more stories.

    Loading...