कौशल विकास के अंतर को पाटने का लक्ष्य लेकर चल रहा आईएसआईएम

कौशल विकास के अंतर को पाटने का लक्ष्य लेकर चल रहा आईएसआईएम

Published07 Jul 2018, 10:04 AM IST
अभी - अभी
2 min read

मुम्बई, 7 जुलाई (आईएएनएस)| देश में कौशल विकास के अंतर को कम करने की सरकार की योजना के साथ कंधे से कंधा मिलाते हुए इंडियन स्कूल ऑफ इमेज मैनेजमेंट (आईएसआईएम) ने मुंबई के लोखंडवाला में अपना परिचालन शुरू कर दिया है। भारतीय छात्रों को प्रशिक्षित करने के साथ ही संस्थान का लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय इमेज पेशेवरों की अगली पीढ़ी को भी तैयार करना है। संस्थान जल्द ही पवई, लोअर परेल और अंधेरी पूर्व में भी अपने केंद्र खोलेगा।

आईएसआईएम ने इंटरनेशनल इमेज इंस्टीट्यूट कनाडा से अंतरराष्ट्रीय संबद्धता ली है और साथ ही यह एसोसिएशन ऑफ इमेज कंसल्टेंट इंटरनेशनल से मान्यता प्राप्त पाठ्यक्रमों को उपलब्ध कराता है।

आईएसआईएम देश का इकलौता ऐसा संस्थान है जो एसोसिएशन ऑफ इमेज कंसल्टेंट इंटरनेशनल के अंतरराष्ट्रीय तौर पर पहचाने जाने वाले सीईयू पाठ्यक्रमों को सालभर उपलब्ध कराता है।

संस्थान का प्रमुख पाठ्यक्रम 'इमेज मैनेजमेंट डुअल सर्टिफिकेट प्रोग्राम' छात्रों को दो प्रमाणन देता है। इसमें एक प्रमाणन उन्हें इंटरनेशनल इमेज इंस्टीट्यूट कनाडा और एक आईएसआआईएम से मिलता है। दो माह के इस पाठ्यक्रम में छात्र को नियमित क्लास लेनी होती है।

आईएसआईएम की प्रबंध सहायक और संस्थापक सोनिया दुबे दीवान ने कहा, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के आंकड़ों के अनुसार पिछले 6 माह में भारत में 3 लाख से अधिक नौकरियां सृजित हुईं। वहीं विश्वबैंक की विश्व विकास रिपोर्ट 2019 के अनुसार भारत में औपचारिक क्षेत्र या उद्योग जगत अनौपचारिक क्षेत्र के मुकाबले लगभग दोगुना मेहनताना देता है। हमें केवल युवाओं को अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त प्रशिक्षण देकर युवाओं के कौशल को उन्नत बनाने की जरूरत है ताकि वह ज्यादा से ज्यादा संख्या में औपचारिक क्षेत्र में आ सकें। आईएसआईएम में हम अगली पीढ़ी के प्रशिक्षित इमेज लीडरों को तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सोनिया का यह ढ़ विश्वास है इमेज मैनेजमेंट शिक्षण क्षेत्र में आईएसआईएम जल्द ही एक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उद्योग मानक को पूरा करेगा।

ऐसे पाठ्यक्रमों की जरूरतों और उपलब्ध अवसरों के बारे में सोनिया ने कहा, इमेज मैनेजमेंट फैशन, प्रशिक्षण, कोचिंग, स्टा इलिंग, लाइफ स्टाइल ब्लॉगिंग जैसे क्षेत्र में करियर बनाने की चाह रखने वाले किसी भी व्यक्ति की पसंद हो सकती है। यह ना केवल लोगों को उद्यमिता का अवसर देता है बल्कि मानव संसाधन प्रबंधन, विकास एवं प्रशिक्षण, लनिर्ंग जैसे क्षेत्रों में रोजगार के मौके भी उपलब्ध कराता है। विमानन,खुदरा और शिक्षा जैसे क्षेत्र में लोग पहले से ही इमेज मैनेजमेंट में पारंगत पेशेवरों को नौकरी पर रख रहे हैं।

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)


क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!