वक्फ सम्पत्तियों के रिकॉर्ड को डिजिटल करने का काम 100% पूरा: नकवी
वक्फ सम्पत्तियों के रिकॉर्ड को डिजिटल करने का काम 100% पूरा: नकवी
(फोटो: PTI)

वक्फ सम्पत्तियों के रिकॉर्ड को डिजिटल करने का काम 100% पूरा: नकवी

केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा कि देश भर में वक्फ सम्पत्तियों के रिकार्ड के डिजिटलीकरण का काम 100 प्रतिशत पूरा हो गया है और यह एक बड़ी उपलब्धि है।

नकवी ने यहां दक्षिणी राज्यों के वक्फ सम्मेलन में कहा, ‘‘डिजिटलीकरण और जियो मैपिंग से यह सुनिश्चित हुआ कि बड़ी संख्या में ऐसी सम्पत्तियां भी वक्फ रिकार्ड में आ गई हैं जो आधिकारिक रिकार्ड से गायब हो गई थीं।’’

मंत्री ने कहा कि दशकों से बड़ी संख्या में वक्फ सम्पत्तियां आधिकारिक रिकार्ड से ‘‘गायब’’ हो थीं।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार द्वारा गत पांच वर्षों में वक्फ सम्पत्तियों के शुरू किये गए डिजिटलीकरण कार्य से वक्फ सम्पत्तियों की उचित देखरेख हुई है।

देशभर में करीब छह लाख पंजीकृत वक्फ सम्पत्तियां हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘देशभर में वक्फ सम्पत्तियों का 100 फीसदी जियो टैगिंग और डिजिटलीकरण कार्यक्रम यह सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया गया था कि इन सम्पत्तियों को समाज कल्याण के लिए इस्तेमाल किया जा सके। डिजिटलीकरण और जियो टैगिंग से वक्फ माफिया पर काबू पाने में भी मदद मिलेगी।’’

मंत्री ने कहा कि करीब 24 हजार वक्फ सम्पत्तियों का जियो टैगिंग का काम पूरा हो गया है।

उन्होंने कहा कि वक्फ सम्पत्तियों का जीआईएस या जीपीएस मैपिंग आईआईटी रूड़की और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की मदद से शुरू किया गया था।

उन्होंने कहा कि वक्फ सम्पत्तियों के डिजिटलीकरण और जियो टैगिंग के लिए केंद्रीय वक्फ काउंसिल राज्य वक्फ बोर्डों को वित्तीय मदद और तकनीकी सहायता मुहैया करा रहा है ताकि वे तय समयसीमा में डिजिटलीकरण का काम पूरा कर सकें।

उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पहली बार नरेंद्र मोदी नीत सरकार वक्फ जमीन पर स्कूल, कालेज, आईआईटी, पॉलिटेक्निक, अस्पताल, बहुउद्देश्यीय सामुदायिक सभागार ‘‘सद्भाव मंडप’’, हुनर हब, साझा सेवा केंद्र, रोजगार उन्मुखी विकास केंद्र और अन्य आधारभूत ढांचे के विकास के लिए प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत कमजोर वर्गों और जरूरतमंद विशेष बालिकाओं के लिए उन क्षेत्रों में 100 फीसदी वित्तपोषण मुहैया करा रही है जो इन मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं।

नकवी ने मुतवली सम्मेलन का भी उद्घाटन किया जिसमें दक्षिणी राज्यों से 200 मुतवली हिस्सा ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है जब मुतवलियों को वक्फ सम्पत्तियों का जरूरतमंदों के सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक सशक्तिकरण के वास्ते बेहतर उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया गया है और पुरस्कृत किया गया है।

भाषा अमित मनीषामनीषा0811 1535 कोच्चिनननन.

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)


Follow our अभी - अभी section for more stories.

वीडियो

Loading...