पक्षपातपूर्ण व्यवहार करता है पाकिस्तान : डॉ. हर्षवर्धन
पक्षपातपूर्ण व्यवहार करता है पाकिस्तान : डॉ. हर्षवर्धन
पक्षपातपूर्ण व्यवहार करता है पाकिस्तान : डॉ. हर्षवर्धन

पक्षपातपूर्ण व्यवहार करता है पाकिस्तान : डॉ. हर्षवर्धन

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है.)

नई दिल्ली, 28 दिसंबर (आईएएनएस)| पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर दानिश कनेरिया का मुद्दा अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने उठाया है। उनके मुताबिक, दानिश के साथ हुआ पक्षपातपूर्ण बर्ताव पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं के उत्पीड़न की सच्चाई बयां करता है। मंत्री ने दानिश के उत्पीड़न को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) से जोड़ा है। दानिश कनेरिया पाकिस्तानी हिंदू नागरिक हैं। वह लंबे समय तक पाकिस्तान क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे हैं। सीएए को दानिश के साथ जोड़ते हुए हर्षवर्धन ने कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार, जिन्होंने पीड़ित हिंदुओं के दर्द को समझा और उन्हें भारत की नागरिकता देने की पहल करी।"

डॉक्टर हर्षवर्धन के मुताबिक, इस प्रकार के उत्पीड़न से दुखी होकर भारत आए लोगों को नागरिकता देने के लिए नागरिकता संशोधन कानून बनाया गया है।

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने एक चैट शो में बताया था कि पाकिस्तान टीम के ही कुछ खिलाड़ियों ने हिंदू होने के कारण दानिश का अपमान किया। शोएब ने खुलासा किया है कि हिंदू होने की वजह से ही पाकिस्तान में दानिश को जरूरी श्रेय नहीं मिला।

शोएब के मुताबिक, कुछ पाकिस्तानी खिलाड़ी तो दानिश के धर्म के कारण उसके साथ खाना भी नहीं खाते थे।

डॉक्टर हर्षवर्धन का कहना है कि दानिश कनेरिया के साथ पक्षपातपूर्ण बर्ताव पर शोएब अख्तर का ये बयान पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं के उत्पीड़न की सच्चाई बयां करता है।

शोएब अख्तर द्वारा खुलासा किए जाने के बाद दानिश ने कहा कि कुछ खिलाड़ी पीठ पीछे उनको लेकर टिप्पणियां करते थे, फिर भी उन्होंने पाकिस्तानी खिलाड़ियों की इन हरकतों को कभी मुद्दा नहीं बनाया।

दानिश कनेरिया के उत्पीड़न का खुलासा होने के बाद कई नेताओं व संगठनों ने इस पर प्रतिक्रिया दी, लेकिन केंद्र सरकार के किसी बड़े कैबिनेट मंत्री द्वारा दानिश का मुद्दा उठाया जाना अहम है।

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)


Follow our अभी - अभी section for more stories.

    Loading...