ADVERTISEMENT

उत्तराखंड में मिले कोरोना के 50 नए केस, देहरादून में सबसे अधिक संक्रमित

प्रदेशभर में पिछले 24 घंटे के भीतर कोरोना संक्रमण के 50 नए मामले सामने आए हैं.

Published
उत्तराखंड में मिले कोरोना के 50 नए केस, देहरादून में सबसे अधिक संक्रमित
i

(आईएएनएस)। उत्तराखंड (Uttarakhand) में फिर कोरोना की रफ्तार बढ़नी शुरू हो गई है। बुधवार को कोरोना के 50 नए संक्रमित मिले हैं, इसमें देहरादून के सर्वाधिक 29 मरीज हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी सूचना के मुताबिक, बुधवार को सामने आए 50 नए मामलों में देहरादून के 29 मामलों के अलावा चमोली, हरिद्वार व नैनीताल के तीन-तीन मामले, पौड़ी व उत्तरकाशी के दो-दो मामले और टिहरी व ऊधमसिंह नगर के चार-चार मामले शामिल हैं। 20 कोविड संक्रमित मरीज बुधवार को स्वस्थ हो गए। अब प्रदेश में कुल 194 कोविड के एक्टिव केस हैं, जिनमें सबसे ज्यादा 140 मामले देहरादून के हैं। इस सूची में दूसरे नंबर पर 13 मामलों के साथ हरिद्वार और तीसरे नंबर पर 11 मामलों के साथ नैनीताल के नाम शामिल हैं।

चंपावत, पिथौरागढ़ और रुद्रप्रयाग जिले में कोरोना का कोई भी एक्टिव केस नहीं है। दूसरी ओर, बुधवार को प्रदेश में 7288 लोगों को कोरोना वैक्सीन दी गई है। स्वास्थ्य विभाग ने एक बार फिर ज्यादा से ज्यादा लोगों से वैक्सीनेशन कराने के साथ ही कोरोना बचाव की गाइडलाइंस का पालन करने की अपील की है।

देहरादून में बढ़ा संक्रमण, एक दिन में 29 मरीज

बुधवार को 24 घंटे के भीतर जिले में 29 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। कोरोना संक्रमित पाए गए लोग जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से हैं। बुधवार को कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 140 पहुंच गई। बुधवार शाम राज्य कोविड कंट्रोल रूप से जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, प्रदेशभर में पिछले 24 घंटे के भीतर कोरोना संक्रमण के 50 नए मामले सामने आए हैं। इसमें देहरादून जिले में सर्वाधिक 29 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। 24 घंटे की अवधि में जिले में 369 मरीजों के नमूने कोरोना जांच के लिए भेजे गए हैं।

पूर्व में भेजे गए नमूनों में से 415 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। अभी 52 नमूनों की रिपोर्ट आनी बाकी है। इस साल एक जनवरी से अब तक जिले में 33,460 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. राजीव दीक्षित ने बताया कि कोरोना संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं है। ऐसे में लोगों को कोविड गाइडलाइन का पालन करना चाहिए।

डॉ. दीक्षित ने बताया कि घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन सतर्कता जरूरी है। उन्होंने बताया कि कोरोना के लक्षण नजर आने पर अस्पताल में जाकर जांच कराएं। बिना डॉक्टर की सलाह के दवा न लें।

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×