पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री और इंदिरा गांधी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते मनमोहन सिंह (फोटोः @INCIndia)
| 2 मिनट में पढ़िए

नोटबंदीः पूर्व PM मनमोहन सिंह ने कहा- आगे होगी और भी बुरी हालत

मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ कांग्रेस के जन वेदना सम्मेलन में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम जमकर बरसे. मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी के वादों को पूरी तरह से खोखला बताया. नोटबंदी के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि अभी और भी बुरी स्थिति आना बाकी है.

मनमोहन सिंह ने कहा कि ये एक अंत की शुरुआत है. मोदी सरकार ने देश को बुरी स्थिति में धकेल दिया है.

मनमोहन सिंह ने कहा- पीएम मोदी के वादे खोखले हैं. उनकी पॉलिसी को देश ने सिरे से नकार दिया है. देश की अर्थव्यवस्था गिर रही है. नोटबंदी देश के लिए आपदा के समान है. देश एक बुरी स्थिति से गुजर रहा है और इसका सबसे बुरा समय आना अभी बाकी है.

मनमोहन सिंह ने कहा, ‘मैंने संसद में पहले भी कहा था कि नोटबंदीका देश की अर्थ व्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा. कई रेटिंग एजेंसियों ने बी कहा था कि जीडीपी 6.6 फीसदी तक नीचे जा सकती है. मोदी जी कहते रहे हैं कि वह देश की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव ला रहे हैं. लेकिन सच ये है कि यह अंत की शुरुआत है. उनके सारे वादे खोखले हैं.’

नोटबंदी के मुद्दे पर चिदंबरम भी मोदी सरकार पर बरसे

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी नोटबंदी की कड़ी आलोचना की. उन्होंने कहा कि नोटबंदी के फैसले से जीडीपी बुरी तरह से प्रभावित हुई है. चिदंबरम ने सवाल उठाते हुए कहा कि जिन लोगों कि जिंदगियां पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले की वजह से प्रभावित हुईं हैं उनकी भरपाई कौन करेगा?

चिदंबरम ने कहा- मैं मांग करता हूं कि सरकार उन लोगों को मुआवजा दे जिन्होंने नोटबंदी के फैसले की वजह से अपनी रोजी-रोटी गंवाई.

चिदंबरम ने दावा करते हुए कहा कि 'एक व्यक्ति के फैसले' की वजह से 70 दिनों के भीतर करीब 45 करोड़ लोगों ने अपनी रोजी-रोटी गंवाई.