Ed Milad Un Nabi 2019: ईद-मिलाद-उन-नबी क्या है? जानिए इसका महत्व

इस दिन मुस्लिम धर्म के संस्थापक हजरत मोहम्मद साहब का जन्म हुआ था

Updated10 Nov 2019, 06:29 AM IST
लाइफस्टाइल
2 min read

आज देश और दुनिया में मिलाद उन-नबी मनाया जा रहा है. इस्लाम धर्म के आखिरी पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब के जन्मदिन के मौके पर देशभर में ईद मिलाद उन-नबी मनाया जाता है. ईद मिलाद उन-नबी को ईद-ए-मिलाद के नाम से भी जानते हैं. इसी दिन मुस्लिम धर्म के संस्थापक हजरत मोहम्मद साहब का जन्म हुआ था.

इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार, इस्लाम के तीसरे महीने यानी रबी-अल-अव्वल की 12वीं तारीख 571ई में पैंगबर साहब का जन्म हुआ था. वहीं, रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन ही मोहम्मद साहब का निधन भी हुआ था.

मोहम्मद साहब का परिचय

पैगंबर हजरत मोहम्मद का पूरा नाम मोहम्मद इब्र अब्दुल्लाह इब्र अब्दुल मुत्तलिब था. इनका जन्म मक्का नाम के शहर में हुआ था. इनके वालिद का नाम अब्दुल्लाह और वालदा का नाम बीबी अमीना था. ऐसा कहा जाता है कि 610 ईसवीं में मक्का के पास हीरा नाम की गुफा में उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी. वहीं बाद में मोहम्मद साहब ने इस्लाम धर्म की पवित्र किताब कुरान की शिक्षाओं का पालन और उपदेश दिया.

इस दिन क्या करते हैं?

ईद मिलाप उन-नबी के दिन पैंगबर मोहम्मद के प्रतीकात्मक पैरों के निशान पर प्रार्थना की जाती है. मुस्लिम धर्म के लोग इसे मनाने के लिए रात भर जागकर दुआएं और प्रार्थना करते हैं. इस दिन जुलूस भी निकाला जाता है. इसके अलावा पैगंबर मोहम्मद हजरत साहब को पढ़ा जाता है और उन्हें याद किया जाता है. लोग इस दिन मक्का, मदीना और दरगाहों पर जाते हैं.

हजरत मोहम्मद साहब का संदेश

हजरत मोहम्मद साहब का कहना था कि सबसे नेक इंसान वही है, जिसमें मानवता होती है. इसके अलावा उन्होंने कहा था कि जो ज्ञान का आदर करता है, वह मेरा सम्मान करता है.

हजरत मोहम्मद की शिक्षा के मुताबिक,भूखे को खाना दो, बीमार की देखभाल करो, अगर कोई गलती से बंदी बनाया गया है तो उसे मुक्त करो, परेशानी में हर इंसान की मदद करो, भले ही वह मुसलमान हो या गैर मुस्लिम.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 07 Nov 2019, 12:05 PM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!