अगस्त में थीं COVID-19 पॉजिटिव, एग्जाम सेंटर में जाने से रोका

उन्हें कोई आधिकारिक नोटिस भी नहीं दिया गया और सेंटर पर कन्फ्यूजन ही कन्फ्यूजन था

Published
My रिपोर्ट
2 min read

वीडियो एडिटर: आशुतोष भारद्वाज

बिहार में JEE परीक्षार्थी को एग्जाम सेंटर में जाने से रोक दिया गया. वो अगस्त में COVID-19 पॉजिटिव थीं. उन्हें कोई आधिकारिक नोटिस भी नहीं दिया गया और सेंटर पर कन्फ्यूजन ही कन्फ्यूजन था. काफी रिस्क उठाकर 12 घंटे की यात्रा कर छात्रा एग्जाम सेंटर पहुंची थीं.

10 अगस्त को मेरा कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आया था और मैं गवर्नमेंट हॉस्पिटल में आइसोलेट की गई थी. 20 अगस्त को मैं हॉस्पिटल से पूरी तरह ठीक होकर डिस्चार्ज हुई थी.घर पर 7 दिन सेल्फ क्वॉरंटीन भी रही थी. मेरे JEE मेंस का एग्जाम 4 सितंबर को सेंकेंड शिफ्ट में शेड्यूल किया गया था.

एग्जाम सेंटर मेरे घर से 500 किमी दूर था, अभी के समय में घर से बाहर निकलते ही लगता है कि जान हथेली पर लेकर चलते हैं. मैंने हिम्मत नहीं हारी, एग्जाम देने की ठानी, चाहे जो भी हो जाए एग्जाम देंगे. 12 घंटे सफर करके मैं एग्जाम सेंटर पर पहुंची. जिस तरह JEE के सब अभ्यर्थी को एग्जाम से पहले मेल आता है, मुझे भी वैसा ही मेल आया था.

लेकिन जब मैं एग्जाम सेंटर में गई, मेरा टेंपरेचर स्कैन किया गया, एडमिट कार्ड स्कैन किया गया. तब सेंटर इंचार्ज ने साइड में खड़े होने को कहा. मुझसे मेरा रोल नंबर पूछा गया. दोबारा टेंपरेचर स्कैन कराया गया. कहा गया कि आपका एग्जाम नहीं होगा क्योंकि आप कोविड पॉजिटिव थे. कहा गया कि अलग से एग्जाम रिशेड्यूल कराया जाएगा.

मैंने नया गाइडलाइन दिखाने को कहा, जिसमें लिखा है कि कोविड पॉजिटिव बच्चे को एग्जाम नहीं देने दिया जाएगा. कोई जानकारी तो आनी चाहिए थी. उन्होंने कहा कि आप खुद NTA को कॉल कीजिए. वो परमिशन देते हैं तो हम आपको एग्जाम देने देंगे. तो मैंने NTA को मेल किया, NTA के नंबर पर कॉल किया. 5-6 बार कॉल करने के बाद एक बार रिसीव हुआ और इतना ही कहा कि जो भी कहना है मेल कीजिए. NTA की तरफ से अभी तक कोई जवाब नहीं आया है, ना ही नई गाइडलाइंस के बारे में वेबसाइट पर बताया गया है.

मेरी महाराष्ट्र की एक दोस्त कोविड 19 से सफर कर रही थी, उसका एग्जाम 5 सितंबर को था फिर भी उसे आइसोलेट कर ए्ग्जाम देने दिया गया. लेकिन मेरे ठीक होने के बाद भी एग्जाम नहीं देने दिया गया. मैं कोविड पॉजिटिव होने के बावजूद परीक्षा की तैयारी कर रही थी. ये मेरी आखिरी कोशिश थी. मैं 4 सालों इसकी तैयारी कर रही हूं. मैं बहुत तनाव में हूं, ये सोचकर कि मेरा करियर बर्बाद हो गया है. मैं इतनी उम्मीद से तैयारी कर रही थी, मुझे समझ नहीं आ रहा कि क्या करूं. NTA प्लीज हम कोविड पॉजिटिव को इ्ग्नोर मत किजिए.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!