डियर सोल्जर, एक मेजर से मिलकर पता चला, कितना कठिन है आपका जीवन
आपको अपने सैनिक को ‘संदेश’ भेजने का मौका मिले, जिसने देश के लिए अपनी जिंदगी समर्पित कर दी, तो आप उनसे क्या कहेंगे?
आपको अपने सैनिक को ‘संदेश’ भेजने का मौका मिले, जिसने देश के लिए अपनी जिंदगी समर्पित कर दी, तो आप उनसे क्या कहेंगे?(फोटो: क्विंट हिंदी)

डियर सोल्जर, एक मेजर से मिलकर पता चला, कितना कठिन है आपका जीवन

प्रिय सैनिक,

मुझे हमेशा से पता था कि एक सैनिक का जीवन काफी चुनौतियों से भरा होता है. लेकिन दो साल पहले जब मैं एक सेना के जवान मेजर विक्रम कुमार सिंह से मिली तब मुझे पता चला कि इन लोगों की लाइफ कितनी कठिन होती है. एक यात्र के दौरान ट्रेन में मेरी मेजर से मुलाकात हुई .

यह मीटिंग महज दो-तीन घंटे की ही थी, लेकिन इसने मुझे अंदर तक हिला दिया. मेजर दो साल बाद अपने घर जा रहे थे. उस समय कश्मीर के पंपोर में उनकी पोस्टिंग थी, जहां हाल ही में एक आतंकवादी हमला हुआ था. उन्होंने मुझे वहां की कैजुअल्टी के बारे में और एक सैनिक की लाइफ के बारे में कई बातें बताईं.

उनसे मिलकर मुझे एहसास हुआ कि जब हर दिन आपके दोस्त बॉर्डर पर शहीद होते चले जाते हैं, वैसी स्थिति में किसी के लिए भी काम करना कितना मुश्किल होता है. बावजूद इसके हर सैनिक देश की भलाई के लिए सारे गमों को भूलाकर काम करता रहता है.

देश की सेना और सैनिकों के लिए हमेशा मेरे मन में सम्मान रहा है. लेकिन मेजर विक्रम कुमार सिंह ने सैनिकों के बारे में काफी कुछ करीब से जानने समझने का मौका दिया. मेजर जैसे लोग न केवल बहादुर लड़ाकू हैं, बल्कि उनका भी परिवार होता है, बावजूद इसके वो घर से दूर रहकर देश की सेवा में अनवरत लगे रहते हैं.

आपकी कठोर जिंदगी के बारे में सोचकर ही मैं सहम जाती हूं. वाकई में आप जिस जज्बे के साथ देश की सेवा में लगे हुए हैं उसके लिए हम हमेशा आपके शुक्रगुजार रहेंगे. आपकी वजह से ही हम सांस ले पा रहे हैं और सुरक्षित तरीके से रह पा रहे हैं. आप सभी का तहे दिल से सलाम

जय हिंद!

शिप्रा त्रिवेदी

लखनऊ

'संदेश To A Soldier' क्या है?

आप एक सैनिक से क्या कहेंगे, जिसने अपनी छुट्टियों, जन्मदिन, सालगिरह, अपने बच्चे के जन्म और ऐसे कई मौकों को गंवा दिया, सिर्फ इसलिए ताकि वो अपनी ड्यूटी निभा सके?

अगर आपको अपने सैनिक को 'संदेश' भेजने का मौका मिले, जिसने देश के लिए अपनी जिंदगी समर्पित कर दी, तो आप उनसे क्या कहेंगे?

इस गणतंत्र दिवस द क्विंट आपसे, देश के नागरिकों से गुजारिश करता है कि भारत के जांबाज हीरो- सैनिक के नाम अपना संदेश लिखकर या रिकॉर्ड करके भेजिए. क्विंट अपनी वेबसाइट पर एक इंटरैक्टिव ऐप के जरिए इन सभी संदेशों को एक ही जगह पर दिखाएगा.

'संदेश To A Soldier' की जरूरत क्यों?

भारतीय गणतंत्र और देश में जिस सुरक्षित माहौल में हम जीते हैं, उसका जश्न मनाने के लिए क्विंट सैनिकों की प्रतिबद्धता और बहादुरी को सेल्यूट करना चाहता है. अपनी जिम्मेदारी को नि:स्वार्थ तौर पर निभाने, महीनों तक अपने परिवार से दूर रहने, अपने बच्चे का स्कूल में पहला दिन मिस करने, या अपने बूढ़े माता-पिता की मदद करने को उनके आस-पास मौजूद न होने के लिए क्विंट उन्हें सेल्यूट करना चाहता है.

'संदेश To A Soldier' के जरिए क्विंट भारतीय नागरिकों को उन सैनिकों से जोड़ना चाहता है, जिन्हें वे कभी नहीं जानते होंगे. ये खामोशी से उनका आभार जताने का एक तरीका, उनकी तारीफ का एक टोकन और देशभक्ति भरी एक कवायद है.

जय हिन्द!

ये भी पढ़ें : देश के वीर जवानों को शायरी के जरिए सलाम!

'संदेश To A Soldier' कैसे भेजें?

ये बहुत आसान है. बस एक चिट्ठी लिखें या अपना संदेश रिकॉर्ड करें और इसे myreport@thequint.com पर ईमेल करें या  9999008335 पर वॉट्सऐप कर

(सभी माई रिपोर्ट सिटिजन जर्नलिस्टों द्वारा भेजी गई रिपोर्ट है. द क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों/आरोपों की जांच करता है, लेकिन रिपोर्ट और इस लेख में व्यक्त किए गए विचार संबंधित सिटिजन जर्नलिस्ट के हैं, इससे क्विंट की सहमति जरूरी नहीं है.)

ये भी पढ़ें : मैं सेना अधिकारी की पत्नी हूं, मुझे देश की सेना पर गर्व है

(My रिपोर्ट डिबेट में हिस्सा लिजिए और जीतिए 10,000 रुपये. इस बार का हमारा सवाल है -भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कैसे सुधरेंगे: जादू की झप्पी या सर्जिकल स्ट्राइक? अपना लेख सबमिट करने के लिए यहां क्लिक करें)


Follow our My रिपोर्ट section for more stories.

    वीडियो