यूपी: हरदोई में हिचकोले, “हर सड़क का यही हाल’’  

योगी आदित्यनाथ ने 15 जून, 2017 तक राज्य की सड़कों को गड्ढामुक्त बनाने का वादा किया था.

Updated
My रिपोर्ट
2 min read

वीडियो एडिटर: पूर्णेन्दु प्रीतम

जब यूपी में किसी चुनावी वादे को निभाने की बात आती है तो प्रसिद्ध कहावत ही दिमाग में आता है कि ‘वादे तोड़ने के लिए ही होते हैं.’

मार्च 2017 में जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यभार संभाला था, उसी साल 15 जून तक राज्य की सड़कों को गड्ढामुक्त बनाने का वादा किया था.

उस समय तो वादे पर काम नहीं हुआ लेकिन आज 2020 में भी वही स्थिति है. 11 सितंबर को, मुख्यमंत्री ने एक बार फिर अधिकारियों को नवरात्रि से पहले गड्ढे मुक्त सड़कों को सुनिश्चित करने का आदेश दिया था. अब दशहरे के बाद भी हरदोई में सड़कों की हालत जस की तस है.

यहां सड़कों की हालत खराब है. पैचवर्क भी बहुत अच्छा नहीं है. ये बहुत पुरानी सब्जी मंडी है, यहां सब कुछ बिकता है. बहुत सारे अधिकारी भी इस क्षेत्र से होकर जाते हैं. इसके बावजूद, कोई भी हमारी समस्याओं पर ध्यान नहीं देता है.
अच्युत वर्मा, दुकानदार  

सड़कों का निर्माण किया जाता है लेकिन फिर 3-4 महीनों में स्थिति वैसी ही हो जाती है. इन समस्याओं को सिर्फ वो समझ सकते हैं जिन्हें इन्हीं गलियों से रोजाना गुजरना पड़ता है.

हालांकि नगर पालिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने क्विंट को बताया कि सड़कों की ऐसी स्थिति इसलिए है क्योंकि शहर के कई इलाकों में जल निगम अमृत योजना के तहत पाइपलाइन बिछाई जा रही है. खोदे गए कई सड़कों के मरम्मत का काम शुरू हो गया है.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!