ADVERTISEMENT

Chhattisgarh: HC ने ग्रामीणों की घर से बेदखली पर लगाई रोक, रात 11 बजे हुई सुनवाई

Chhattisgarh HC ने अपने घरों से बेदखली की चौखट पर खड़े ग्रामीणों को राहत दी.

Published
न्यूज
1 min read
Chhattisgarh: HC ने ग्रामीणों की घर से बेदखली पर लगाई रोक, रात 11 बजे हुई सुनवाई
i

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट (Chhattisgarh HC) ने शुक्रवार, 4 अगस्त को एक अनोखी मिसाल कायम की है. कुछ ग्रामीण याचिकाकर्ताओं के मामले को महत्वपूर्ण मानकर जज ने रात 11 बजे कोर्ट में सुनवाई की और अपने घरों से बेदखली की चौखट पर खड़े लोगों को राहत दी.

ये मामला महासमुंद जिले के लालपुर गांव का है. यहां झाड़ के जंगलों में आजादी के पहले से रह रहे ग्रामीणों के खिलाफ तहसीलदार ने बेदखली की कार्रवाई का नोटिस जारी किया था.

ADVERTISEMENT

हाईकोर्ट में रात 11 बजे सुनवाई

तहसीलदार का नोटिस मिलने के बाद याचिकाकर्ता फूलदास कोसरिया और योगेश ने हाईकोर्ट के वकील वकार नैयर से देर शाम संपर्क किया. याचिकाकर्ता के वकील ने रजिस्ट्री के जरिए हाईकोर्ट से अर्जेंट सुनवाई का अनुरोध किया. इस पर हाईकोर्ट से अनुमति मिलने के बाद वकील ने रात 10 बजे ग्रामीणों की याचिका दाखिल की.

मामले की गंभीरता को देखते हुए जस्टिस पी सेम कोशी ने रात 10ः50 बजे सुनवाई शुरू की. मामले की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने ग्रामीणों को अंतरिम राहत देते हुए बेदखली की कार्रवाई पर 10 अगस्त तक रोक लगा दी.

याचिकाकर्ता के वकील वकार नैयर ने बताया कि ग्रामीण आजादी के पहले से उस भूमि पर रह रहे थे और 1982 से अभी तक वे लगातार टैक्स भी कटा रहे हैं.
ADVERTISEMENT

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ नगरीय क्षेत्र भूस्वामी विधेयक 1984 के अनुसार 2002 से पहले जमीन पर काबिज हैं, उन्हें डीम्ड पट्टेदार माना जाएगा. अगर उनकी भूमि किसी शासकीय काम के लिए ली जा रही है तो उन्हें उसके बदले पुनर्वास योजना के तहत किसी नई जगह जमीन दी जाएगी या फिर मुआवजा दिया जाएगा.

इनपुट - राहुल भोई

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Chhattisgarh 

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×