DU ओपन बुक एग्जाम को HC की परमिशन,जानिए परीक्षा से जुड़ी सभी बातें

स्टूडेंट्स को मेल और यूनिवर्सिटी पोर्टल के जरिये क्वेश्चन पेपर दिया जाएगा.

Published
शिक्षा
2 min read
जानिए ओपन बुक एग्जाम से जुड़ी सभी बातें
i

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) को फाइनल ईयर स्टूडेंट्स के ऑनलाइन ओपन बुक एग्जाम (OBE) को अनुमति दे दी है. ये परीक्षाएं 10 अगस्त से शुरू होंगी. हाईकोर्ट ने एग्जाम आयोजित करने के दौरान DU के लिए कुछ निर्देश भी जारी किया है और साथ ही एग्जाम होने के बाद इसपर रिपोर्ट देने को कहा है.

जस्टिस प्रतिभा एम सिंह ने कहा कि स्टूडेंट्स को मेल और यूनिवर्सिटी पोर्टल के जरिये क्वेश्चन पेपर दिए जाएं और आंसर शीट अपलोड करने के लिए उन्हें अलग से समय दिया जाए.

जानिए ओपन बुक एग्जाम से जुड़ी सभी बातें.

क्वेश्चन पेपर कहां से कर सकते हैं डाउनलोड?

स्टूडेंट्स DU के पोर्ट्ल से क्वेश्चन पेपर डाउनलोड कर सकते हैं. एग्जामिनेशन फॉर्म में उन्होंने जो ईमेल आईडी दी है, उसपर भी क्वेश्चन पेपर भेजा जाएगा. इसलिए अगर पोर्टल किसी कारण नहीं चल रहा है, तो भी स्टूडेंट्स अपने ईमेल से क्वेश्चन पेपर एक्सेस कर सकते हैं.

क्या ईमेल के जरिए ही भेजी जाएगी आंसर शीट?

हां. स्टूडेंट्स अपनी आंसर शीट की फोटो अपलोड कर सकते हैं या उन्हें मेल के जरिये भेज सकते हैं. एग्जाम लिखने के लिए दो घंटे के समय के साथ-साथ, स्टूडेंट्स को आंसर शीट अपलोड करने के लिए भी एक घंटे का समय मिलेगा.

ये कैसे मालूम चलेगा कि यूनिवर्सिटी को आंसर शीट मिल गई है?

कोर्ट ने DU से कहा है कि वो आंसर शीट मिलने के बाद स्टूडेंट्स को एक ऑटो-जेनरेटेड मेल भेजे. DU को इस बात का ध्यान रखना होगा कि इस ईमेल आईडी पर सभी स्टूडेंट्स के रिस्पॉन्स लेने की पर्याप्त क्षमता हो. इसके अलावा, DU को 8 अगस्त तक सभी नोडल अधिकारियों, एग्जाम में शामिल सभी कॉलेजों और संबंधित अधिकारियों की ई-मेल आईडी पब्लिश करनी है.

पेपर डाउनलोड या अपलोड करते समय परेशानी आई, तो क्या करें?

एग्जाम के दौरान कोई समस्या आने पर स्टूडेंट्स को DU के ग्रीवेंस ऑफिसर को मेल भेजना होगा. इसके बाद ग्रीवेंस ऑफिसर को इस मुद्दे को 48 घंटे के अंदर एड्रेस करना होगा.

ग्रीवेंस ऑफिसर की तरफ से कार्रवाई नहीं होने पर, मामला ग्रीवेंस रिड्रेसल कमेटी के पास चला जाएगा. दिल्ली हाईकोर्ट के एक पूर्व जज इस कमेटी की अध्यक्षता करेंगे और DU को एग्जाम पूरा होने के बाद कमेटी के सामने रिपोर्ट सबमिट करनी होगी.

क्या स्टूडेंट्स CSC अकादमी का लाभ उठा सकते हैं?

कॉमन सर्विस सेंटर अकादमी (CSC) को अपने सभी सेंटर्स को ईमेल भेजकर बताना होगा कि वो एग्जाम के लिए तैयार हैं. CSC डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के तहत एक स्कीम है. कम या बिना किसी सुविधा वाले स्टूडेंट्स को CSC के जरिये मदद मुहैया कराई जाएगी.

कब घोषित होगा रिजल्ट?

कोर्ट ने DU से कहा है कि वो टीचर्स को साथ ही साथ आंसर शीट भेजते रहें, जिससे रिजल्ट जल्द जारी हो सके.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!