QS World Ranking by Subject:टॉप 100 में देश के 12 संस्थानों को जगह

इस विषयवार रैकिंग में तीन IIT’s टॉप-50 में जगह बनाने में कामयाब रहे हैं. वहीं इस लिस्ट में JNU का भी नाम है.

Published
QS World Ranking by Subject:टॉप 100 में देश के 12 संस्थानों को जगह
i

देश के 12 इंस्टीट्यूट्स को QS World Ranking by Subject-2021 के टॉप-100 में जगह मिली है. इस विषयवार रैकिंग में तीन IIT's टॉप-50 में जगह बनाने में कामयाब रहे हैं. वहीं इस लिस्ट में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी का भी नाम है.4 मार्च को रिलीज हुई रैंकिंग 52 भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में चलने वाले 253 प्रोग्रामों के प्रदर्शन का स्वतंत्र डेटा मुहैया कराती है. इन प्रोग्राम में कई इंजीनियरिंग डिसिप्लिन (केमिकल, पेट्रोलियम, सिविल, मैकेनिकल), लॉ, डेवलपमेंट स्टडीज और आर्ट्स समेत कई शामिल हैं.

टॉप-100 में ये 12 इंस्टीट्यूट्स हैं-

  1. आईआईटी बॉम्बे
  2. आईआईटी दिल्ली
  3. आईआईटी मद्रास
  4. आईआईटी खड़गपुर
  5. आईआईएससी बेंगलुरु
  6. आईआईटी गुवाहाटी
  7. आईआईएम बेंगलुरु
  8. आईआईएम अहमदाबाद
  9. जेएनयू
  10. अन्ना यूनिवर्सिटी
  11. दिल्ली यूनिवर्सिटी
  12. ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी

आईआईटी मद्रास को वर्ल्ड ऑफ पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में 30वीं पोजिशन हासिल हुई है. मिनरल्स औऱ माइनिंग इंजीनियरिंग में , IIT बॉम्बे को 41वां और IIT खड़गपुर को 44वां स्थान मिला है. डेवलपमेंट स्टडीज में दिल्ली यूनिवर्सिटी को 50वां स्थान मिला है. लॉ में प्राइवेट यूनिवर्सिटी ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी को 76वां स्थान हासिल हुआ है.

IISc बेंगलुरु को मटेरियल्स साइंस में 78वां और केमिस्ट्री में 93वां स्थान हासिल हुआ है. इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में IIT- दिल्ली को 54वां,कंप्यूटर साइंस में 70वां और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में 79वां स्थान हासिल हुआ है.

पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में अन्ना यूनिवर्सिटी और एंथ्रोपोलॉजी में जेएनयू को भी टॉप-100 में रैंक हासिल हुई है. बिजनेस और मैनेजमेंट प्रोग्राम में आईआईएम- अहमदाबाद और आईआईएम बेंगलुरु जगह बना सके हैं. .

शिक्षा मंत्री ने दी बधाई

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने इन 12 इंस्टीट्यूट्स को बधाई दी है.उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में जिस तरह से केंद्र सरकार ने उच्च शिक्षा में सुधार किए हैं, उसका असर अब वैश्विक स्तर पर दिखने लगा है, QS जैसे प्रतिष्ठित रैंकिंग में भारतीय संस्थानों को जगह हासिल हो रही है. उन्होंने कहा कि ऐसी रैंकिंग और रेटिंग से भारतीय संस्थानों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और ग्लोबल एक्सीलेंस के लिहाज से इंस्टीट्यू्ट्स बेहतर कर सकेंगे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!