ADVERTISEMENT

DLF रिश्वत मामले में CBI से लालू यादव को मिली क्लीन चिट

लालू प्रसाद और रियल एस्टेट डेवलपर DLF समूह के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस

Published
भारत
2 min read
<div class="paragraphs"><p>आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव</p></div>
i

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के संस्थापक लालू प्रसाद यादव को राहत देते हुए उन्हें डीएलएफ से जुड़े एक रिश्वत मामले में क्लीन चिट दे दी है. सीबीआई सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय जांच एजेंसी ने जनवरी 2018 में लालू प्रसाद और रियल एस्टेट डेवलपर डीएलएफ समूह के खिलाफ भ्रष्टाचार के लिए प्रारंभिक जांच शुरू की थी.

ADVERTISEMENT

क्या था लालू प्रसाद यादव पर आरोप

लालू यादव पर आरोप लगाया गया था कि डीएलएफ समूह मुंबई बांद्रा स्टेशन के अपग्रेडेशन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन प्रोजेक्ट को हासिल करने की कोशिश में था और इसी दौरान पूर्व रेल मंत्री लालू को कथित रिश्वत के तौर पर दक्षिणी दिल्ली के पॉश इलाके न्यू फ्रेंड कॉलोनी में एक संपत्ति रिश्वत के तौर पर दी गई थी. इन्हीं आरोप की सीबीआई द्वारा जांच की जा रही थी.

सूत्र ने कहा कि लालू पर यह आरोप लगाया गया था कि एबी एक्सपोर्ट नामक प्राइवेट लिमिटेड नाम की शेल कंपनी के द्वारा न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में 5 करोड़ की कीमत का एक फ्लैट खरीदा गया था. यह कंपनी लेक्सिस इंफोटेक प्राइवेट लिमिटेड और दूसरी शेल कंपनियों के माध्यम से वित्तपोषित की गई थी. ये कंपनियां डीएलएफ होम डेवलेपर्स द्वारा फंडेड थी.

लालू यादव के बेटे और बेटी ने खरीदी थी कंपनी

दरअसल, आरोप लगाया गया था कि पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव, बेटी चंदा और रागिनी ने 2011 में 4 लाख रुपये में एक कंपनी एबी एक्सपोर्ट्स खरीदी थी. एक कथित शेल कंपनी एबी एक्सपोर्ट्स ने 2007 में न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में 5 करोड़ रुपये में एक संपत्ति खरीदी थी. इस प्रकार न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी की संपत्ति उन्हें हस्तांतरित कर दी गई.

सूत्र ने कहा कि सीबीआई ने प्रवीण जैन और अमित कात्याल की भूमिका की भी जांच की है, जिन्होंने डीएलएफ समूह और राजद नेता के बीच लेनदेन को अंजाम दिया था.

ADVERTISEMENT

सीबीआई सूत्र ने कहा कि प्रारंभिक जांच (पीई) को बंद कर दिया गया है, क्योंकि आरोपों से कोई मामला बनता नहीं दिख रहा है.

सूत्रों के मुताबिक, एक जानकारी यह भी सामने आई है कि पूर्व सीबीआई निदशक ऋषि कुमार शुक्ला के शीर्ष पद से सेवानिवृत्ति से पहले ही इस मामले में लालू यादव को राहत दे दी गई थी, लेकिन वो अब सामने आई है.

लालू प्रसाद को झारखंड हाईकोर्ट ने इस साल अप्रैल में दुमका कोषागार मामले में जमानत दी थी, जो बिहार चारा घोटाला मामले से जुड़ा है. लालू पर राजकोष से 3 करोड़ रुपये से अधिक निकालने का आरोप है. जमानत मिलने से पहले लालू प्रसाद ने तीन साल से अधिक समय जेल में बिताया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT