कोरोना रिकवरी रेट: किस राज्य में सबसे बेहतर, किसका बुरा हाल-ब्योरा

कोरोना रिकवरी रेट को लेकर मेघालय सबसे बेहतर

Updated29 Jun 2020, 04:19 PM IST
भारत
2 min read

कोरोना वायरस के मामले देश में लगातार बढ़ रहे हैं. इस महामारी से रोजाना सैकड़ों लोगों की मौत भी हो रही है. लेकिन बढ़ते आंकड़ों के बीच कई राज्यों में रिकवरी रेट में भी सुधार देखा गया है. यानी जहां कोरोना मामलों में उछाल दिख रहा है, वहीं लोग जल्दी ठीक भी हो रहे हैं. हम देशभर के ऐसे ही राज्यों का हाल बता रहे हैं, जहां पर सबसे ज्यादा और सबसे कम रिकवरी रेट दर्ज किया गया है. साथ ही देश के बड़े राज्यों समेत हर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश का रिकवरी रेट आपको बताएंगे.

सबसे पहले आपको बताते हैं कि देश में वो कौन से पांच राज्य हैं, जहां पर कोरोना का रिकवरी रेट सबसे ज्यादा है. यानी जहां कोरोना वायरस से लोग तेजी से ठीक हो रहे हैं.

कोरोना रिकवरी रेट: किस राज्य में सबसे बेहतर, किसका बुरा हाल-ब्योरा

अब आपको पांच ऐसे राज्यों के आंकड़े बताते हैं जहां कोरोना का रिकवरी रेट सबसे कम है. यानी यहां ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ते मामलों के मुकाबले काफी कम है.

कोरोना रिकवरी रेट: किस राज्य में सबसे बेहतर, किसका बुरा हाल-ब्योरा

अब बात करते हैं उन राज्यों की जहां कोरोना का सबसे ज्यादा कहर देखने को मिल रहा है. इन बड़े राज्यों में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, हालांकि रिकवरी रेट में भी सुधार देखने को मिला है.

कोरोना रिकवरी रेट: किस राज्य में सबसे बेहतर, किसका बुरा हाल-ब्योरा

बाकी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में रिकवरी रेट

  • बंगाल - 64.76

  • यूपी- 66.86

  • उत्तराखंड - 71.48

  • सिक्किम - 55.68

  • पंजाब - 67.59

  • ओडिशा - 71.71

  • नागालैंड -39.51

  • मणिपुर - 38.39

  • मध्य प्रदेश - 76.47

  • लद्दाख - 60.85

  • केरल - 51.37

  • कर्नाटक - 56.91

  • झारखंड - 75.84

  • जम्मू-कश्मीर - 60.84

  • हिमाचल प्रदेश - 57.75

  • हरियाणा -64.48

  • गोवा - 39.89

  • असम - 70.60

  • आंध्र प्रदेश - 44.61

  • अंडमान-निकोबार - 59.21

(रिकवरी रेट का ये डेटा 29 जून तक के आंकड़ों से लिया गया है)

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 29 Jun 2020, 03:32 PM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!