ADVERTISEMENT

कोरोना के 50% से ज्यादा नए मामले सिर्फ महाराष्ट्र-केरल में- स्वास्थ्य मंत्रालय

केंद्र सरकार के नये कोविड पैकेज के अंतर्गत 8,800 से अधिक एंबुलेंस,20,000 नए ICU बेड का भी प्लान

Published
कोरोना के 50% से ज्यादा नए मामले सिर्फ महाराष्ट्र-केरल में- स्वास्थ्य मंत्रालय
i

देश में कोरोना (COVID-19) वायरस के मामलों में गिरावट जारी है. बावजूद इसके कुछ राज्यों में संक्रमण में तेजी देखी जा रही है. मंगलवार,13 जुलाई को प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि जहां देश में संक्रमण के मामले में कमी आई है वहीं अकेले महाराष्ट्र और केरल में देश के 50% से अधिक नए मामले सामने आए हैं.

ADVERTISEMENT

73 जिलों में हर दिन 100 से ज्यादा नए मामले

प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार भारत में अभी 4.31 लाख एक्टिव मामले मौजूद हैं और रिकवरी रेट 73.3% तक पहुंच गया है. 73 जिलों में हर दिन 100 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं, जबकि 2 जून को प्रतिदिन 100 से अधिक मामले वाले जिलों की संख्या 266 थी और 4 मई को 531.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि केरल, महाराष्ट्र समेत पांच अन्य राज्य अभी भी ऐसे हैं जहां सबसे ज्यादा नए मामले सामने आ रहें है. अकेले केरल और महाराष्ट्र में देश के 50% मामलें मिल रहे हैं. साथ ही तमिलनाडु ,आंध्रप्रदेश, उड़ीसा में भी बड़ी संख्या में नए मामले सामने आए हैं. इस लिस्ट में मणिपुर, मिजोरम ,त्रिपुरा और अरुणाचल प्रदेश जैसे पूर्वोत्तर राज्यों का भी नाम है.

8,800 से अधिक एंबुलेंस की अलग से व्यवस्था

लव अग्रवाल ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जारी कोविड-19 पैकेज की मदद से करीब 20,000 नए बेडों को तैयार किया जाएगा. इनमें से 20% बेड पीडियाट्रिक बेड होंगे. इसके अलावा हर जिले में एक पीडियाट्रिक यूनिट भी बनाई जाएगी.

केंद्र सरकार के नये कोविड पैकेज के अंतर्गत 8,800 से अधिक एंबुलेंस की अलग से व्यवस्था करने का भी प्लान है.

लव अग्रवाल ने आगे बताया कि कोरोना से निपटने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने 11 राज्यों में केंद्रीय टीमों की नियुक्ति की है. इसका उद्देश्य कोरोना प्रबंधन में राज्य सरकारों को मदद पहुंचाना है. इन 11 राज्यों में पूर्वोत्तर के राज्यों के अलावा महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ केरल और उड़ीसा शामिल है.

ADVERTISEMENT

"सुनिश्चित करना होगा कि तीसरी लहर ना आए"

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के सुस्त पड़ने और अनलॉकडाउन की प्रक्रिया के साथ ही इसको लेकर लापरवाही के कुछ उदाहरण सामने आ रहे हैं. ऐसे में तीसरी लहर के प्रति सचेत करते हुए नीति आयोग के सदस्य डॉ वी.के पॉल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि दुनिया के कई देशों में तीसरी लहर आ चुकी है और हमें सुनिश्चित करना होगा कि यह भारत तक ना पहुंचे.

उन्होंने कहा कि अभी भी दुनिया भर में हर दिन 3.9 लाख नए मामले रजिस्टर हो रहे हैं जबकि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हर दिन 9 लाख मामले सामने आ रहे थे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×