ADVERTISEMENT

मोदी सरकार से विश्व की 50 बड़ी हस्तियां-राजनीतिक बंदियों को छोड़ दें

कई यूरोपियन देशों के संसद सदस्य, वकीलों ने एक साझा बयान जारी किया

Published
भारत
2 min read
कई यूरोपियन देशों के संसद सदस्य, वकीलों ने एक साझा बयान जारी किया
i

दुनियाभर की 50 से ज्यादा प्रतिष्ठित हस्तियों ने एक साझा बयान जारी कर भारत सरकार से गिरफ्तार किए गए सभी मानवाधिकार कार्यकर्त्ता और राजनीतिक बंदियों को छोड़ने की अपील की है. बयान पर हस्ताक्षर करने वालों में कई यूरोपियन देशों के संसद सदस्य, अकादमिक, वकील, नोबल प्राइज विजेता, सिविल सोसाइटी के नेता और कई संगठन शामिल हैं.

बयान में अपील की गई है कि भारत सरकार दया और जिम्मेदारी दिखाते हुए मौजूदा कोविड इमरजेंसी में 'मानवाधिकार रक्षकों' को रिहा कर दे. इसमें कहा गया कि भारतीय जेलों में कोविड फैलने की वजह से इन लोगों के स्वास्थ्य को खतरा है.

बयान में कोविड प्रभावित कैदियों, जेलों में बढ़ती कैदियों की संख्या और खराब हेल्थकेयर पर चिंता जताई गई.  
ADVERTISEMENT

भीमा-कोरेगांव केस का जिक्र

इन हस्तियों ने अपने बयान में भीमा-कोरेगांव केस का जिक्र किया है. बयान में कहा गया कि इसमें गिरफ्तार हुए ज्यादातर लोग वरिष्ठ नागरिक हैं और उन्हें कई और बीमारियां भी हैं.

बयान में कहा गया, "सभी मानवाधिकार रक्षकों का मजदूरों, अल्पसंख्यकों, दलितों और आदिवासियों के लिए शांतिपूर्ण और संवैधानिक तरीकों से लिखने, बोलने और काम करने का रिकॉर्ड है."

बयान में चेतावनी दी गई कि इन लोगों को रिहा न करने से देश नागरिकों की जान की रक्षा करने के अपने संवैधानिक दायित्व का उल्लंघन करेगा.  
ADVERTISEMENT

बयान के साथ एक खुला खत भी

बयान पर हस्ताक्षर करने वालों में यूएन वर्किंग ग्रुप ऑन आरबिटरेरी डिटेंशन के पूर्व अध्यक्ष जोस एंटोनियो गुएरा-बरमुडेज, केंटरबरी के पूर्व आर्कबिशप रोवन विलियम्स और जर्मनी, यूके, स्पेन, आयरलैंड समेत कई देशों के संसद सदस्य और वकील शामिल हैं.

बयान के साथ एक खुला खत भी लिखा गया है, जिसे 1200 से ज्यादा अकादमिकों और अकादमिक संस्थानों का समर्थन मिला है. इसमें भारत में कैद अकादमिक और सिविल लिबर्टी एक्टिविस्टों को रिहा करने की अपील की गई है.  

ये अपील इंटरनेशनल सॉलिडेरिटी फॉर अकादमिक फ्रीडम इन इंडिया (InSAF India) की एक पहल है. अपील में कहा गया कि मौजूदा स्थिति में प्री-ट्रायल हिरासत से रिहा करना ही कैदी के जीने के अधिकार को सुरक्षित करने का इकलौता तरीका है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT