सादी वर्दी में छात्रों पर लाठी भांजने वाले कौन? पुलिस ने दिया जवाब

जींस और टी-शर्ट में छात्रों पर लाठीचार्ज करते हुए युवक की फोटो हुई थी वायरल

Updated
भारत
2 min read
जींस और टी-शर्ट में छात्रों पर लाठीचार्ज करते हुए युवक की फोटो हुई थी वायरल
i

नागरिकता कानून के खिलाफ जामिया में हुए हिंसक प्रदर्शन में सबसे ज्यादा चर्चा पुलिस की कार्रवाई की है. पुलिस पर कई तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं. आरोप हैं कि पुलिस ने छात्रों से बेवजह मारपीट की. लेकिन इस दौरान एक सवाल और उठ रहा है कि जो लोग प्रदर्शनकारियों पर सादी वर्दी में लाठी भांज रहे थे, वो कौन थे? कई लोग इन्हें किसी छात्र संगठन का नेता बता रहे हैं तो कुछ का कहना है कि ये पुलिस के बुलाए गए लोग थे.

अब इस मामले में दिल्ली पुलिस ने सफाई दी है और बताया है कि आखिर सादी वर्दी में छात्रों पर लाठियां बरसाने वाले लोग कौन थे.

पुलिस ने कहा- हमने पूरी की ड्यूटी

पुलिस पर लगने वाले आरोपों का जवाब देते हुए साउथ ईस्ट दिल्ली के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने इस आरोप का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि "पुलिस ने भीड़ और हिंसा को काबू करने के लिए अपनी ड्यूटी निभाई. झूठी फोटो फैलाकर आरोप लगाए जा रहे हैं. एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें एक पुलिसकर्मी को किसी छात्र संगठन का नेता बताया जा रहा है. ये झूठ है."

डीसीपी ने कहा कि सादी वर्दी में पुलिस के साथ भीड़ को कंट्रोल करने वाले लोग भी पुलिसवाले ही थे. उन्होंने कहा,

“जो आदमी फोटो में दिख रहा है वो पुलिसवाला है. उसे जामिया में पुलिस के ‘बंदोबस्त’ के तहत तैनात किया गया था. पुलिस के बंदोबस्त में सिर्फ वर्दी वाले लोग ही नहीं होते, इसमें सादी वर्दी में भी पुलिसवाले होते हैं. उन्हें इसलिए तैनात किया जाता है कि वो भीड़ में उपद्रवियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर सकें.”
चिन्मय बिस्वाल, डीसीपी, साउथ ईस्ट दिल्ली

क्या था मामला?

बता दें कि जामिया में 15 दिसंबर को छात्रों पर हुए लाठीचार्ज के बाद एक फोटो सामने आई. जिसमें एक शख्स जींस और टी-शर्ट पहने हुए पुलिस के साथ छात्रों पर लाठीचार्ज करता दिख रहा है. कई लोगों ने इस फोटो पर सवाल खड़े किए थे और कहा था कि आखिर कैसे कोई सिविल ड्रेस में ऐसा कर सकता है. वहीं एक छात्र संगठन के नेता से इसका चेहरा मिलाकर भी फोटो वायरल हुई थी.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!