नोटबंदी पर भिड़ गए जेटली और चिदंबरम
जेटली ने नोटबंदी का बचाव किया लेकिन चिदंबरम ने कहा इसने देश की इकनॉमी बरबाद कर  दी
जेटली ने नोटबंदी का बचाव किया लेकिन चिदंबरम ने कहा इसने देश की इकनॉमी बरबाद कर  दी(फोटोः Altered by Quint)

नोटबंदी पर भिड़ गए जेटली और चिदंबरम

नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर सरकार और विपक्ष में इसके नुकसान को लेकर घमासान मचा है. सरकार की ओर से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जहां इस फैसले का बचाव किया है वहीं, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और सीनियर सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने इसे बेहद घातक फैसला करार दिया है. उन्होंने कहा कि इससे लोगों की जिदंगी बरबाद हो गई.

जेटली ने कहा कि नोटबंदी का मकसद लोगों के नोट को जब्त करना नहीं बल्कि अर्थव्यवस्था को ज्यादा औपचारिक बनाना था. उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से अर्थव्यवस्था को औपचारिक शक्ल देने के लिए उठाए गए कदमों में से एक कदम था नोटबंदी.

कांग्रेस ने कहा,नोटबंदी के जख्म अब ज्यादा दिख रहे हैं

वहीं कांग्रेस से नोटबंदी के दिन को इतिहास का काला दिन करार दिया है और कहा है कि पीएम मोदी को इसके लिए देश से माफी मांगनी चाहिए. इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले को लोगों के लिए एक जख्म बताया.यूपीए सरकार के पीएम मनमोहन सिंह ने कहा

यूपीए सरकार के पीएम मनमोहन सिंह ने कहा

नोटबंदी ने हर उम्र, लिंग, धर्म, व्यवसाय या पंथ के लोगों पर असर डाला है. अक्सर यह कहा जाता है कि समय हर घाव को भर देता है, लेकिन दुर्भाग्य से नोटबंदी के मामले में ये निशान और घाव वक्त के साथ और ज्यादा दिखाई दे रहे हैं. 

यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी के दौरान लाइनों में खड़े एक सौ लोगों से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. जीडीपी डेढ़ फीसदी गिर गई. कांग्रेस ने ऐसा कहा था और यही हुआ. सरकार अब अच्छे दिन की बात नहीं कर रही है. अब अच्छे दिन की बातें नहीं सिर्फ हिंदुत्व के बारे में चर्चा हो रही है.

मोदी ने लोगों की रोजी-रोटी और जिंदगी बरबाद कर दी

सीपीएम के जनरल सेक्रेट्री सीताराम येचुरी ने कहा कि मोदी और उनके इर्द-गिर्द जमा चाटुकारों की फौज दावा कर रही थी कि नोटबंदी से काला धन और भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा. यह आतंकवाद का खात्मा कर देगी और सिर्फ देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन होगा. लेकिन दो साल बाद मोदी चुप हैं. हकीकत यह है कि मोदी ने अपने सिर्फ एक फैसले से देशों की अर्थव्यवस्था, लोगों की जिंदगी और रोजी-रोटी बर्बाद कर दी.

शरद यादव, अरविंद केजरीवाल और शशि थरूर ने भी नोटबंदी के फैसले को आड़े हाथ लिया है. शरद यादव ने ट्वीट कर कहा है कि अब देश के हर नागरिक को पता चल गया है कि नोटबंदी एक ऐतीहासिक गलती थी और जिसने इस देश के हर घर को बर्बाद किया लेकिन इसका फायदा सिर्फ बीजेपी के चंद पूंजीपति दोस्तों को मिला.

वीडियो देखें : नोटबंदी के 3 बड़े साइड इफेक्ट और एक ‘फायदा’ जो बोला पर हुआ नहीं

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो