कुलभूषण जाधव केस: इंटरनेशनल कोर्ट में फिर शुरू होगी सुनवाई
 इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में बुधवार से एक बार फिर पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव मामले पर सुनवाई शुरू करेगा
इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में बुधवार से एक बार फिर पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव मामले पर सुनवाई शुरू करेगा (फोटो: The Quint)

कुलभूषण जाधव केस: इंटरनेशनल कोर्ट में फिर शुरू होगी सुनवाई

पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव के मामले में बुधवार को फिर से अंतरराष्‍ट्रीय अदालत में सुनवाई शुरू होने जा रही है. इससे पहले मई में कुलभूषण को पाक सेना की तरफ से दी गई फांसी की सजा पर कोर्ट ने 18 मई तक रोक लगा दी थी.

पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर भारतीय जासूस होने का आरोप लगाया था, दरअसल भारतीय नौसेना के अधिकारी रह चुके 47 साल के जाधव को पाकिस्तान की सेना ने पिछले साल अप्रैल में गुप्त सैन्य मुकदमे में जासूसी और आतंकवाद का दोषी ठहराया था.

कोर्ट ने दोनों देशों को दिया था मेमोरियल दाखिल करने का वक्त

कुलभूषण जाधव मामले में भारत एक मेमोरियल यानि निवेदन पत्र दाखिल करेगा जिसमें पाकिस्तान की तरफ से नियम कायदों को न मानने वाली सारी बातें मौजूद होंगी.भारत एक बार फिर राजनयिक एक्सेस दिए जाने की मांग रखेगा.

इस निवेदन पत्र में कुलभूषण से मिलने की इजाजत न देने की बात भी की गई है. भारत का कहना है कि ऐसा करके पाकिस्तान सरेआम विएना समझौते का उल्लंघन कर रहा है.

यह सारी बातें रखते हुए भारत अंतरराष्ट्रीय न्यायालय से कुलभूषण की रिहाई की मांग करेगा.इसके बाद पाकिस्तान भी 13 दिसंबर को अपना मेमोरियल दाखिल करेगा. कोर्ट ने 16 जून को भारत को यह मेमोरियल दाखिल करने के लिए 13 सितम्बर और पाकिस्तान को 13 दिसंबर का दिन दिया था.

पिछले साल जारी हुआ था जाधव का वीडियो

पिछले साल पाकिस्तान ने जाधव का एक वीडियो जारी किया गया था, जिसे जियो चैनल ने प्रसारित किया था. उसमें वह कहते दिख रहे थे कि वह रॉ के एजेंट हैं और अभी भी भारतीय नौसेना के लिए काम करते हैं.

हालांकि भारत ने माना था कि कुलभूषण नौसेना में काम करते थे और रिटायर हो चुके हैं, लेकिन रिटायरमेंट के बाद सरकार ने उनका कोई संपर्क नहीं रहा. भारत के विदेश मंत्रालय ने यह भी कहा था कि वीडियो दबाव डालकर बनवाया गया हो सकता है. यह भी हो सकता है कि जाधव का अपहरण किया गया हो. साथ ही यह बताया गया था कि भारत को उनकी चिंता है.