कश्मीर:कर्मचारियों को काम पर लौटने के निर्देश, स्कूल भी खुले
 सरकारी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से काम पर वापस लौटने के निर्देश
सरकारी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से काम पर वापस लौटने के निर्देश (फोटो:PTI)

कश्मीर:कर्मचारियों को काम पर लौटने के निर्देश, स्कूल भी खुले

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद अब हालात बेहतर बनाने की तरफ कदम उठाए जा रहे हैं. मोदी सरकार अब लगातार घाटी का जीवन वापस पटरी पर लाने की कोशिश कर रही है. अब शुक्रवार से सब कुछ सामान्य होने के आसार हैं. जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव ने सरकारी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से काम पर वापस लौटने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा बंद पड़े कुछ स्कूल भी फिर से पहले की तरह खुल चुके हैं.

Loading...
जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव ने एक आदेश में कहा, ‘डिविजनल लेवल, डिस्ट्रिक्ट लेवल और श्रीनगर स्थित सिविल सेक्रेटेरियट में काम करने वाले सभी कर्मचारी तत्काल प्रभाव से काम पर लौटें.’ इसके साथ ही प्रशासन को निर्देश दिए गए हैं कि काम पर लौटने वाले सभी कर्मियों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाए.

ये भी पढ़ें : कश्मीर के जेल ओवरलोड, आगरा पहुंचाए गए ‘पत्थरबाजों’ सहित 26 बंदी

सुरक्षा का दिया गया भरोसा

जम्मू-कश्मीर के सभी लोगों को काम पर वापस लौटने के निर्देश के साथ ही उन्हें ये बताया गया है कि सरकार उनकी सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी उठाती है. सभी को भरोसा दिया गया है कि वो बिना किसी डर के बाहर निकल सकते हैं. घाटी में कई ऐसे लोग हैं जो अभी तक अपने काम पर लौटने से घबरा रहे हैं. घाटी में बने हालात के बाद अब माहौल सुधारने की कोशिश है. इसी के तहत अब उधमपुर और सांबा जिले के सभी स्कूल भी शुक्रवार 9 अगस्त से खुल चुके हैं.

ये भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर में कर्फ्यू और सख्ती से ढील कब, PM मोदी ने दिए संकेत

भारी सुरक्षाबल की तैनाती

जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छीने जाने के बाद सरकार कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहती है. घाटी में किसी भी बड़ी घटना को रोकने के लिए हजारों सुरक्षाबल अभी भी तैनात हैं. संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा और भी ज्यादा कड़ी है. वहीं पाकिस्तान की तरफ से मिलने वाली चेतावनियों को भी नजरअंदाज नहीं किया जा रहा है. एलओसी पर कड़ी नजर रखी जा रही है. भारतीय सेना हर तरह की हरकत पर नजर बनाए हुए है. बताया जा रहा है कि आतंकी पीओके की तरफ से घुसपैठ की तैयारी में हैं.

ये भी पढ़ें : आर्टिकल 370 के कारण रुका था कश्मीर में विकास? आंकड़े तो नहीं कहते

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our भारत section for more stories.

    Loading...