Q लखनऊः योगी की अफसरों को फटकार, पूर्व मंत्री बेरिया SP से बाहर
पढ़िए उत्तर प्रदेश की बड़ी खबरें फटाफट
पढ़िए उत्तर प्रदेश की बड़ी खबरें फटाफट(फोटो कोलाज: Quint Hindi)

Q लखनऊः योगी की अफसरों को फटकार, पूर्व मंत्री बेरिया SP से बाहर

बुलंदशहर हिंसा: सुमित के परिजनों को 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गैरकानूनी गोकशी की अफवाह के बाद भीड़ की हिंसा में मारे गए युवक सुमित के परिवार को योगी सरकार ने दस लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. मंगलवार दोपहर परिवार ने सरकार से 50 लाख रुपये मुआवजा, माता-पिता को पेंशन और मृतक के बड़े भाई को पुलिस में नौकरी का आश्वासन देने तक मृतक का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था.

मृतक सुमित कुमार के पिता अमरजीत ने हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के समान ही अपने बेटे का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान से किए जाने की मांग की थी. बुलंदशहर के अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट अरविंद कुमार मिश्रा ने बताया कि शुरुआती विरोध के बाद, परिवार शाम करीब साढ़े पांच बजे अंतिम संस्कार करने पर तैयार हुआ जब जिला प्रशासन ने पांच लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की.

सुमित के पड़ोसी ने दावा किया कि वह घटनास्थल के पास एक बस स्टैंड पर अपने एक दोस्त को छोड़ने गया था. उसी समय वह हिंसा का शिकार हो गया और उसे गोली लग गई.

CM योगी ने बैठक में लगाई अधिकारियों को फटकार

बुलंदशहर हिंसा और राजधानी लखनऊ में बीजेपी नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ी नाराजगी जताई है. सीएम योगी ने मंगलवार रात राज्य के बड़े अधिकारियों की बैठक बुलाई थी. इस बैठक में योगी ने कड़ी नाराजगी जताते हुए अफसरों को फटकार लगाई.

योगी ने कहा कि बुलंदशहर हिंसा पूरी गंभीरता से जांच कर गोकशी में संलिप्त सभी आरोपितों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए. उन्होंने कहा कि यह घटना एक बड़े षड्यंत्र का हिस्सा है. लिहाजा गोकशी से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी आरोपितों को जल्द गिरफ्तार किया जाये. योगी ने कहा कि अवैध स्लॉटर हाउस संचालित होने पर डीएम-एसपी की सामूहिक जिम्मेदारी होगी और उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही होगी.

बीजेपी नेता हत्याकांडः इंस्पेक्टर निलंबित, दो गिरफ्तार

राजधानी लखनऊ में बीजेपी नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की सोमवार रात हुई हत्या के विरोध में 10 घंटे तक बवाल चला. मंगलवार दोपहर अफसरों ने इंस्पेक्टर कैसरबाग धीरेन्द्र कुमार कुशवाहा को निलम्बित कर दिया. मुख्यमंत्री ने प्रत्यूष के परिजनोंको 10 लाख रुपये की मदद देने की घोषणा की है.

इस मामले में प्रत्यूष की पत्नी प्रतिमा त्रिपाठी ने पांच लोगों के खिलाफ नामजद और 20-25 अज्ञात लोगों के खिलाफ महानगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया. शाम करीब 4:30 बजे सरेंडर की फिराक में कोर्ट जा रहे हत्यारोपी भाइयों सलमान और अदनान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. अब पुलिस बाकी आरोपियों की तलाश में दबिश दे रही है.

कैसरबाग के तालाब गगनी शुक्ल मोहल्ले में रहने वाले प्रत्यूषमणि त्रिपाठी सोमवार रात करीब 11:30 बजे बादशाहनगर रेलवे स्टेशन के बाहर पंप के पास घायल अवस्था में पड़े मिले थे.

बुलंदशहर हिंसा मामले के लिये बीजेपी सरकार जिम्मेदार: मायावती

बुलन्दशहर जिले में भीड़ की हिंसा के लिये बीएसपी प्रमुख मायावती ने प्रदेश की बीजेपी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. मायावती ने दुख जताते हुए कहा कि हर तरह की अराजकता को संरक्षण देने का परिणाम है कि अब कानून के रखवाले भी बलि चढ़ रहे हैं.

मायावती ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि बीजेपी और उसकी सरकारों को उसके ही द्वारा पैदा किये गये भीड़तंत्र के हिंसक और अराजक राज को खत्म करने के लिये देश और प्रदेशों में कानून का राज स्थापित करने का पूरी ईमानदारी से प्रयास करना चाहिये ताकि देश के संविधान और लोकतंत्र को भीड़तंत्र की बलि चढ़ने से रोका जा सके.

मायावती ने सोमवार रात को राजधानी लखनऊ में बीजेपी के एक युवा नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की हत्या का जिक्र करते हुये कहा कि बीजेपी द्वारा उत्पन्न भीड़तंत्र की उग्र और हिंसक स्थिति का शिकार अब खुद बीजेपी के लोग ही होने लगे हैं. बीएसपी प्रमुख ने मांग की है कि बुलन्दशहर में हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार सभी दोषियों को सख्त सजा, समय पर दिलाना सुनिश्चित किया जाना चाहिये ताकि देश को महसूस हो कि उत्तर प्रदेश में कोई सरकार भी है.

पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया SP से छह साल के लिए निष्कासित

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे शिव कुमार बेरिया को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है. उनके साथ ही रसूलाबाद विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्ष कुलदीप यादव को भी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. प्रदेश अध्यक्ष ने दोनों नेताओं पर यह कार्रवाई पार्टी विरोधी गतिविधियों और पूर्व मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में गुटबाजी सामने आने पर की है.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नोटबंदी के समय बैंक की लाइन में जन्मे खजांचीनाथ को जन्मदिन पर विशेष तकनीकी के आरसीसी रेडीमेड मकान भेंट करने की घोषणा की थी. बीते रविवार को खजांची के जन्मदिन समारोह में सरदारपुरवा गांव पहुंचे एसपी राष्ट्रीय अध्यक्ष के कार्यक्रम में खजांची नाथ और उसकी मां सर्वेशा देवी नहीं पहुंची थीं. इस पर पूर्व मुख्यमंत्री ने मंच से कहा था कि पार्टी के कुछ नेता कार्यक्रम बिगाड़ना चाहते हैं.

इस पूरे प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को कार्रवाई के निर्देश दिए थे. इसके बाद नरेश उत्तम ने पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त होने और गुटबाजी के चलते पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया और रसूलाबाद विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्ष कुलदीप यादव को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है.

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो