धोनी ने स्वतंत्रता दिवस पर लद्दाख में लहराया तिरंगा, 10 तस्वीरें
धोनी ने लद्दाख में मनाया स्वतंत्रता दिवस
धोनी ने लद्दाख में मनाया स्वतंत्रता दिवस(फोटोः @DDNational )

धोनी ने स्वतंत्रता दिवस पर लद्दाख में लहराया तिरंगा, 10 तस्वीरें

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल की उपाधि पा चुके महेंद्र सिंह धोनी ने गुरुवार को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नवगठित केंद्र शासित राज्य लद्दाख में तिरंगा लहराया. वर्ल्ड कप दौरे से लौटने के बाद धोनी क्रिकेट से ब्रेक लेकर इस समय टेरिटोरियल आर्मी के साथ जम्मू-कश्मीर में ड्यूटी पर हैं. धोनी 31 जुलाई को 15 दिन की ट्रेनिंग पर अपनी यूनिट 106 पैरा टीए में खुनमू पहुंचे थे. धोनी की 15 दिनों की ट्रेनिंग गुरुवार को पूरी हो रही है.

Loading...

लद्दाख में लहराया तिरंगा

हाल ही में केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन बिल पास करके लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर दिया है. इस खास मौके पर धोनी नवगठित केंद्र शासित राज्य लद्दाख में स्वतंत्रता दिवस मनाने बुधवार को ही वहां पहुंच गए थे. गुरुवार को धोनी आर्मी कैंप में ध्वजारोहण कार्यक्रम में शामिल हुए. इसके बाद वह आर्मी के जनरल हॉस्पिटल भी पहुंचे.

आर्मी कैंप में लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी
आर्मी कैंप में लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी
(फोटोः @DDNational )

रिपोर्ट्स की मानें तो धोनी ट्रेनिंग के आखिरी दिन यानी 15 अगस्त को सियाचिन जाएंगे. धोनी यहां समझेंगे कि किन परिस्थितियों में जवान देश की रक्षा में तैनात हैं और किस तरह वहां ट्रेनिंग होती है.

इसके बाद वह सियाचिन वॉर मेमोरियल जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे.

आर्मी कैंप में ड्यूटी पर हैं धोनी

रिपोर्ट्स के मुताबिक, लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी बीते 5 अगस्त को आर्मी की 15 कोर के हेडक्वॉर्टर पहुंचे थे. यहां उन्होंने जवानों के साथ वक्त बिताया और रूटीन ट्रेनिंग में हिस्सा लिया. इसके बाद 6 अगस्त को धोनी बारामूला पहुंचे. यहां उनकी ट्रेनिंग हुई.

7 अगस्त को धोनी उरी पहुंचे. यहां भी उनकी ट्रेनिंग हुई. 8 अगस्त को धोनी साउथ कश्मीर के अनंतनाग में थे, जिसके बाद वह फिर से अपनी यूनिट 106 पैरा टीए आ गए. 12 अगस्त को धोनी लेह पहुंचे और यह दिन एक्लेमटाइजेशन में बिताया. 13 अगस्त को धोनी आर्मी की एक फॉर्मेशन में गए. 14 अगस्त को भी ट्रेनिंग की.

धोनी की फायरिंग ट्रेनिंग

रिपोर्ट्स की मानें तो महेंद्र सिंह धोनी को फायरिंग की ट्रेनिंग दी गई. साथ ही उन्हें ये भी बताया गया कि आतंकवाद प्रभावित इलाकों में किस तरह से पेट्रोलिंग होती है.

फायरिंग की ट्रेनिंग लेते धोनी
फायरिंग की ट्रेनिंग लेते धोनी

आर्मी सूत्रों ने कहा कि फायरिंग के साथ ही ट्रेनिंग के दौरान धोनी को बैटल क्राफ्ट भी बताया गया. यानी किस तरह दुश्मन को मारना है और किस तरह दुश्मन का निशाना बनने से खुद को बचाना है.

जवानों को बताईं क्रिकेट की बारीकियां

आर्मी कैंप में धोनी का सारा फोकस इस ट्रेनिंग पीरियड में ट्रेनिंग और इंटरेक्शन पर था. जहां इंटरेक्शन के दौरान जवानों ने धोनी से क्रिकेट के गुर पूछे, वहीं ट्रेनिंग के दौरान जवानों ने धोनी को कभी पेट्रोलिंग की बारीकियां बताई तो कभी बताया कि फायरिंग के दौरान किस तरह खुद को झटके से बचाना है.

(फोटोः IANS)

ट्रेनिंग में धोनी का आखिरी दिन

धोनी ने 31 जुलाई को ड्यूटी संभाली थी और वे 15 अगस्त तक अपनी बटालियन के साथ रहेंगे.

(फोटोः @DDNational)

साल 2011 में सेना से जुड़ने वाले धोनी ट्रेनिंग कैंप में सेना के विमान से पांच पैराशूट जंप लगाकर क्वालिफाइड पैराट्रूार भी बन गए थे. इस दौरान पेट्रोलिंग, गार्ड और पोस्ट ड्यूटी की जिम्मेदारी उन पर होगी.

आर्मी स्कूल में बच्चों से मिले धोनी

अपनी ट्रेनिंग के दौरान महेंद्र सिंह धोनी हंदवाड़ा के बुदकोट में स्थित आर्मी गुडविल स्कूल भी गए और यहां उन्होंने स्कूली बच्चों से भी बात की.

धोनी पर पेट्रोलिंग, गार्ड और पोस्ट ड्यूटी की जिम्मेदारी

साल 2011 में सेना से जुड़े थे धोनी

हाल ही में सेना प्रमुख विपिन रावत ने बताया था कि धोनी ने अपनी बेसिक ट्रेनिंग पूरी कर ली है और उन्होंने अपनी ड्यूटी पूरी करने की इच्छा जताई है.

उन्होंने कहा था, "जब एक भारतीय नागरिक सेना की वर्दी पहनना चाहता है तो उसे इससे जुड़े सभी कामों को करने के लिए तैयार रहना पड़ता है. धोनी ने अपनी ट्रेनिंग पूरी कर ली है और हमें पता है कि धोनी भी इस काम को पूरा करने में सक्षम हैं."

ये भी पढ़ें : साक्षी ने धोनी के घर आई नई गाड़ी की फोटो शेयर की

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our भारत section for more stories.

    Loading...