ADVERTISEMENT

अब कानूनों में नजर नहीं आती स्पष्टता, चिंताजनक स्थिति: CJI एनवी रमना

मुख्य न्यायाधीश का बड़ा बयान, कहा अब कानूनों में नजर नहीं आती स्पष्टता

Updated
न्यूज
2 min read
<div class="paragraphs"><p>मुख्य न्यायाधीश ने आज के समय में बनने कानूनों की आलोचना की&nbsp;</p></div>
i

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना (CJI NV Ramana) ने अपने संबोधन में देश में बनने वाले नए कानूनों के संदर्भ टिप्पणी करते हुए कहा कि आज के कानूनों में नजर ही नहीं आता कि किस उद्देश्य के लिए बनाए गए हैं.

ADVERTISEMENT

संसद की मौजूदा स्थिति पर बात करते हुए उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि यदि आप पुराने दिनों की सदनों में होने वाली बहसों को देखें वो आज की तुलना में बिल्कुल अलग हुआ करती थी. पहले की बहसों में बुद्धिमत्ता और रचनात्मकता हुआ करती थी.

मुख्य न्यायाधीश ने आगे कहा कि पहले भी कानून बना करते थे, बहसें हुआ करती थी, लेकिन आज की स्थिति बेहद चिंताजनक है. हम आज बनने वाले कानूनों में तमाम तरह की खामियाँ देखते हैं. कानूनों में अस्पष्टता देखने को मिलती है.

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा, "अब बनने वाले कानूनों में कहीं कोई स्पष्टता नहीं नजर आती है. बने हुए कानूनों से पता ही नहीं चलता कि ये किस उद्देश्य से बनाए गए हैं. यह स्थिति सरकार के लिए बहुत सारे नुकसान और जनता के लिए असुविधा का करण बन रहा है. अगर सदनों में बुद्धिजीवी और प्रोफेशनल लॉयर न हों तो ऐसा ही होता है."

अगर हम अपने स्वतंत्रता सेनानियों पर भी नजर डालें तो उसमें भी कई वकील बिरादरी के थे. लोकसभा और राज्यसभा के शुरुआती सदस्यों में कई वकील थे, जिससे उस समय सदनों में बहसें भी बहुत रचनात्मक हुआ करती थी. आज जो हम देख रहे हैं यह हमारा दुर्भाग्य है.
CJI एनवी रमना

संसद का मॉनसून सत्र हंगामे में खत्म हो गया. इसकी शुरुआत पेगासस जासूसी कांड पर हंगामे के साथ हुई थी. सत्र के अंत तक आते-आते बात इतनी बिगड़ गई कि राजयसभा से धक्कामुक्की की वीडियो तक सामने आ गई.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT