CAB के विरोध में उबला असम, BJP का आरोप-हिंसा के पीछे स्वार्थी तत्व

असम में प्रदर्शनकारियों ने फूंका BJP विधायक का घर

Published
भारत
4 min read
अगरतला में प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़क पर जलाए गए टायरों को बुझाता पुलिसकर्मी
i

नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) संसद से पारित होने के बाद असम समेत पूर्वोत्तर राज्यों के कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन उग्र रूप लेते जा रहे हैं. असम में प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को एक बीजेपी विधायक का घर फूंक दिया. इसके अलावा कई वाहनों और सर्किल ऑफिस को भी आग लगा दी. इस बीच बीजेपी नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ बड़े पैमाने पर हो रहे विरोध प्रदर्शनों को बड़ा आंदोलन मानने से इनकार कर रही है. हालांकि एक तथ्य ये भी है कि असम में कई नेताओं ने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है.

बीजेपी महासचिव राम माधव ने कहा है कि असम और पूर्वोत्तर के अन्य इलाकों में जहां भी विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, वो कुछ निजी स्वार्थ रखने वाले समूह कर रहे हैं. राम माधव ने इसे नकारात्मक अभियान बताया है और लोगों से इसका शिकार न बनने की अपील की है.

मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे निजी स्वार्थ रखने वाले समूहों की ओर से चलाए जा रहे नकारात्मक प्रदर्शनों का हिस्सा न बनें.
राम माधव, बीजेपी महासचिव

CAB पर उबल रहा असम, देखिए तस्वीरें

  • गुवाहाटी में कर्फ्यू लगने के बाद सड़क पर पेट्रोलिंग करती सेना
  • गुवाहाटी में कर्फ्यू लगने के बाद सड़क पर पेट्रोलिंग करती सेना
  • गुवाहाटी में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ती पुलिस

हिंसक प्रदर्शन में दो की मौत

असम के गुवाहाटी में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की फायरिंग में गुरुवार को दो लोगों की मौत हो गई. गोवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के एक अधिकारी ने बताया कि एक व्यक्ति "मृत" लाया गया और दूसरे ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

हालांकि, अधिकारी ने मृत लोगों के नाम का खुलासा नहीं किया. उन्होंने कहा कि दोनों को अज्ञात के तौर पर अस्पताल लाया गया था.

प्रदर्शनकारियों ने फूंका BJP विधायक का घर

नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को बीजेपी विधायक के घर, वाहनों और सर्किल ऑफिस को आग के हवाले कर दिया.

अधिकारियों ने कहा कि उग्र हुए प्रदर्शनकारियों ने चबुआ में बीजेपी विधायक बिनोद हजारिका के घर में आग लगा दी और वाहनों और सर्कल ऑफिस को भी आग के हवाले कर दिया.

हिंसक प्रदर्शनों के बीच हटाए गए असम के कमिश्नर

असम में जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बीच सरकार ने कार्रवाई करते हुए गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर सहित मुख्य पुलिस अधिकारी को निलंबित कर दिया.

दीपक कुमार के स्थान पर मुन्ना प्रसाद गुप्ता को गुवाहाटी का नया पुलिस प्रमुख बनाया गया है, जबकि अतरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) मुकेश अग्रवाल का भी तबादला कर दिया गया है.

DGP के काफिले पर पथराव

असम के पुलिस प्रमुख भास्कर ज्योति महंत के काफिले पर गुरुवार को पथराव किया गया. यह हमला उस वक्त हुआ, जब वह नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन का सामना कर रहे गुवाहाटी का दौरा कर रहे थे.

महंत का काफिला क्रिश्चियन बस्ती के पास गुवाहाटी-शिलांग रोड पर था, जहां यह हमला हुआ. काफिले में मौजूद कई वाहनों पर पथराव किया गया.

असम गण परिषद के मुख्यालय में तोड़फोड़

गुवाहाटी में प्रदर्शनकारियों ने असम गण परिषद के मुख्यालय में तोड़फोड़ की. प्रदर्शनकारी गोपीनाथ बोरडोलोई रोड पर बने पार्टी के मुख्यालय में घुस गए. यहां उन्होंने तोड़फोड़ की.

BJP नेता जतिन बोरा का इस्‍तीफा

पूर्वोत्तर और विशेष रूप से असम में जारी हिंसक प्रदर्शनों के बीच नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर पार्टी से नाराज असमिया अभिनेता और बीजेपी नेता जतिन बोरा ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

इससे पहले 9 दिसंबर को इसी CAB को लेकर असम बीजेपी के नेता और एक्टर रवि शर्मा इस्तीफा दे चुके हैं.

तनाव के चलते पपोन ने रद्द किया दिल्ली का कार्यक्रम

मशहूर सिंगर पपोन ने दिल्ली में इस सप्ताह के आखिर में आयोजित होने वाले अपने कॉन्सर्ट को रद्द कर दिया है, क्योंकि उनके गृह राज्य असम में स्थिति अभी ठीक नहीं है. पपोन ने गुरुवार को ट्वीट किया, "प्रिय दिल्ली, मुझे खेद है, लेकिन मैंने योजनानुसार 'इंपरफेक्टोशोर' में होने वाले कॉन्सर्ट को न करने का निर्णय लिया है. मेरा गृह राज्य असम जल रहा है, रो रहा है और वहां कर्फ्यू जारी है. अभी मेरी जो मानसिक स्थिति है उसमें मैं आपका मनोरंजन नहीं कर पाऊंगा."

बीजेपी ने त्रिपुरा की अशांति के लिए कांग्रेस को ठहराया जिम्मेदार

बीजेपी ने पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा में फैली अशांति के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है. बीजेपी की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने दावा किया है कि त्रिपुरा में 'लोगों का विरोध' युवा कांग्रेस की करतूत थी.

अमित मालवीय ने ट्विटर पर लिखा, “कुछ पूर्वोत्तर राज्यों में हिंसा की घटना कांग्रेस के हुड़दंगियों और उनके साथियों के इशारे पर हुई हैं. उदाहरण के लिए, लुटियंस मीडिया ने जिसे त्रिपुरा में 'लोगों के विरोध' के रूप में प्रचारित किया, वो यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की करतूत थी."

अमित मालवीय ने ट्वीट के साथ एक न्यूज पेपर की कटिंग भी शेयर की है.

असम के लोगों के अधिकार, पहचान और संस्कृति कोई छीन नहीं सकता:मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को असम के लोगों को आश्वस्त किया कि उन्हें नागरिकता (संशोधन) विधेयक के संसद में पारित होने से चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. पीएम मोदी ने असम के लोगों से कहा है कि कोई भी उनके अधिकार, विशिष्ट पहचान और खूबसूरत संस्कृति को छीन नहीं सकता.

‘‘मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोई आपके अधिकार, विशिष्ट पहचान और खूबसूरत संस्कृति को छीन नहीं सकता है. यह आगे बढ़ता और फलता-फूलता रहेगा.’’  
प्रधानमंत्री मोदी का ट्वीट

उन्होंने कहा कि वह असम के लोगों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक पारित होने से उन्हें चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘केंद्र सरकार और मैं असम समझौते के उपबंध -6 के अनुरूप असम के लोगों के राजनीतिक, भाषायी, सांस्कृतिक और भूमि संबंधी अधिकारों की संवैधानिक सुरक्षा सुनिश्चित करने को प्रतिबद्ध हैं.’’

असम के मुख्यमंत्री ने शांति की अपील

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ असम के अधिकांश हिस्सों में जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बीच राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. सोनोवाल ने कहा, "मैं असम के लोगों को उनकी पहचान के संबंध में पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करने का आश्वासन देता हूं. कृपया शांति की स्थिति बनाए रखें. मुझे उम्मीद है कि लोग इस अपील पर समझदारी से विचार करेंगे."

बता दें, नागरिकता (संशोधन) विधेयक के 10 दिसंबर आधी रात को लोकसभा में पारित होने के बाद से समूचे पूर्वोत्तर, विशेष रूप से असम में हिंसक प्रदर्शन जारी हैं. बुधवार की शाम को राज्य सभा से भी बिल को मंजूरी प्रदान किए जाने के बाद यहां स्थिति और भी बिगड़ गई. असम में मोबाइल, इंटरनेट सेवाओं को अगले 48 घंटों के लिए बंद कर दिया गया है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!