Qलखनऊ: आज राजधानी पहुंचेंगे राष्ट्रपति, 46 मदरसों का अनुदान रद्द
रामनाथ कोविंद NDA की ओर से राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार बनाए गए हैं 
रामनाथ कोविंद NDA की ओर से राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार बनाए गए हैं फाइल फोटो

Qलखनऊ: आज राजधानी पहुंचेंगे राष्ट्रपति, 46 मदरसों का अनुदान रद्द

बाराबंकी जेल अधीक्षक पर मंत्री को घूस देने पर FIR दर्ज

जेल राज्य मंत्री जय कुमार सिंह ने बाराबंकी के जेल अधीक्षक उमेश कुमार सिंह पर 50 हजार रुपये की रिश्वत देने का आरोप लगाया है. मामले में हजरत गंज थाने में एफआईआर भी दर्ज करवाई गई है.

आरोप है कि नशे की हालत में उमेश कुमार सिंह मंत्री के बंगले पर पहुंचे थे. जब मंत्री ने उनसे मिलने से इंकार कर दिया, तो वे वहीं 50 हजार रुपये का लिफाफा छोड़ कर चले आए.

सोर्स: हिंदुस्तान

राष्ट्रपति आज लखनऊ दौरे पर

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरूवार से लखनऊ दौरे पर हैं. इस दौरान ले भीमराव अंबेडकर महासभा और इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान जाएंगे. लखनऊ के बाद वे शुक्रवार दोपहर लगभग 1.30 बजे कानपुर के इश्वरीगंज गांव रवाना होंगे.

राष्ट्रपति की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं. लखनऊ और कानपुर में मिलाकर कुल 13 एसपी और 20 अपर पुलिस अधीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है.

सोर्स: अमरउजाला

योगी सरकार ने 46 मदरसों की ग्रांट रोकी

योगी सरकार ने बुधवार को एक बड़ा फैसला लेते हुए सरकारी सहायता प्राप्त 560 मदरसों में से 46 की ग्रांट पर रोक लगा दी है. ग्रांट पर रोक, शासन की जांच में मदरसों के मानक सही न पाए जाने के चलते लगी है.

अल्पसंख्यक विभाग ने इन मदरसों के शिक्षकों का वेतन भी रोक दिया है. जांच के लिए ज्वाइंट इनवेस्टिगेशन कमेटी बनाई गई थी.

सोर्स: दैनिक जागरण

अमीर से गरीब बनने की परंपरा नेहरू-गांधी की देन: गुलाम नबी आजाद

प्रदेश कांग्रेस की ओर से इंदिरा गांधी के जन्मशती कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस मौके पर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस अपनी विचारधारा बचाने के लिए लड़ाई लड़ रही है.

आजाद के मुताबिक गरीब से अमीर तो सब बनना चाहते हैं, लेकिन अमीर से गरीब होने की परंपरा नेहरू, गांधी ने शुरू की थी. कार्यक्रम में मणिशंकर अय्यर ने भी अपनी बात रखी.

सोर्स: अमर उजाला

रोहिंग्याओं से सहानुभूति बरते केंद्र : मायावती

मायावती ने केंद्र सरकार से रोहिंग्या मुस्लिमों के साथ सहानुभूति भरा व्यवहार करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि इन्हें शरण देना गलत नहीं है. सरकार को मानवीय दृष्टिकोण अपनाना चाहिए. साथ ही म्यांमार व बांग्लादेश की सरकारों से इस बारे में बातचीत कर हल निकालना चाहिए.

सोर्स: दैनिक जागरण