26 Jan हिंसा केस: पंजाब की एक रैली में देखा गया आरोपी लक्खा सिधाना

सिधाना पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपये इनाम का ऐलान किया था

Published
भारत
2 min read
पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर में लगातार छापेमारी की जा रही है
i

गैंगस्टर से एक्टिविस्ट बना लक्खा सिधाना 26 जनवरी को लाल किला हिंसा केस में फरार चल रहा है. दिल्ली पुलिस इस केस में सिधाना की खोज कर रही है. लेकिन हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट कहती है कि लक्खा सिधाना को 23 फरवरी को बठिंडा के मेहराज में एक किसान रैली में देखा गया है.

हाल ही में सिधाना पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपये इनाम का ऐलान किया था. 26 जनवरी की घटना के बाद से दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल सिधाना के तलाश में जुटी है. इस सिलसिले में पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर में लगातार छापेमारी की जा रही है. 

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, 23 फरवरी को हुई रैली सिधाना ने ही आयोजित की थी. रिपोर्ट कहती है सिधाना ने ये रैली किसानों के समर्थन में और प्रदर्शन के संबंध में गिरफ्तार किए गए लोगों को छोड़े जाने की मांग को लेकर बुलाई थी.

हिंदुस्तान टाइम्स का कहना है कि सिधाना ने रैली के दौरान कथित तौर पर कहा, "अगर दिल्ली पुलिस पंजाब में किसी को गिरफ्तार करने आएगी तो गांववाले उनका घेराव करेंगे." सिधाना ने रैली में भाषण दिया और कहा कि किसान प्रदर्शन 'तेज किया जाएगा.'

19 फरवरी को लक्खा सिधाना ने फेसबुक पर एक वीडियो अपलोड किया था. इसमें उन्होंने लोगों से 23 फरवरी की रैली में बड़ी संख्या में पहुंचने के लिए कहा था.  

कौन है लक्खा सिधाना?

सिधाना पंजाब के बठिंडा जिले के एक गांव का रहने वाला है. सिधाना ने किसान आंदोलन के जरिए अपनी राजनीति चमकाने का सपना देखा था. वह किसानों के आंदोलन के माध्यम से राजनीति में बड़ा नाम कमाने की चाहत पाले हुए है.

बताया जा रहा है कि वो 25 नवंबर से ही राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन में काफी सक्रिय रहा है और आंदोलन को गति देने के लिए उसका रुख भी आक्रामक रहा है.

सिधाना, जो किसी समय पर गैंगस्टर रह चुका है, वह अब खुद को एक सामाजिक कार्यकर्ता दर्शाकर राजनीति में प्रवेश करने का लक्ष्य रखे हुए है. 2012 के विधानसभा चुनावों से पहले उसे कई मामलों में बरी कर दिया गया था, जिसे पीपुल्स पार्टी ऑफ पंजाब के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था, जिसका नेतृत्व कभी मनप्रीत सिंह बादल ने किया था, जो कि फिलहाल पंजाब में कांग्रेस सरकार में वित्त मंत्री हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!