चिराग पासवान ने SP-BSP गठबंधन को बताया मजबूत, BJP को दी नसीहत
लोक जनशक्ति पार्टी नेता चिराग पासवान
लोक जनशक्ति पार्टी नेता चिराग पासवान(फोटोः IANS)

चिराग पासवान ने SP-BSP गठबंधन को बताया मजबूत, BJP को दी नसीहत

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन को मजबूत चुनावी गठजोड़ बताया है. एलजेपी नेता चिराग पासवान ने एसपी-बीएसपी गठबंधन को लेकर बीजेपी को नसीहत भी दी है.

चिराग पासवान ने कहा कि सत्ताधारी एनडीए को भी विपक्ष को चुनौती देने के लिए खुद को मजबूत बनाना होगा. पासवान ने कभी धुर प्रतिद्वंद्वी रहे दलों के गठबंधन को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यह गठजोड़ उनके बीच हुआ है जिन्होंने आय से ज्यादा सम्पत्ति जमा की. उनका परोक्ष इशारा बीएसपी सुप्रीमो मायावती और एसपी संरक्षक मुलायम सिंह यादव की ओर था.

‘SP-BSP गठबंधन को मुंहतोड़ जवाब देने के NDA को बनाना होगा मजबूत’

चिराग पासवान ने कहा कि दोनों दलों ने उत्तर प्रदेश में लंबे समय तक शासन किया, जहां के लोगों को बेरोजगारी और अपराध के चलते दूसरे जगह जाने को मजबूर होना पड़ा. उन्होंने कहा कि एक चुनावी रणनीति के तौर पर एसपी-बीएसपी का गठबंधन मजबूत है.

बीजेपी नीत एनडीए को भी उसे चुनौती देने को खुद को मजबूत बनाना होगा ताकि उत्तर प्रदेश के लोग एसपी-बीएसपी गठबंधन को मुंहतोड़ जवाब दे सकें.

SP-BSP गठबंधन से ‘महागठबंधन' पर सवालिया निशान: शिवसेना

SP-BSP गठबंधन को लेकर शिवसेना ने कहा कि इस चुनाव पूर्व गठबंधन ने कांग्रेस की परिकल्पना वाले ‘‘महागठबंधन'' पर सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं. लोकसभा चुनाव के लिए एसपी और बीएसपी के बीच गठबंधन के औपचारिक ऐलान पर निशाना साधते हुए शिवसेना प्रवक्ता मनीषा कायंद ने कहा कि दोनों पार्टियों की विचारधारा अलग है और कोई भी जनता का हित करने वाला नहीं है.

‘‘यह गठबंधन जनता के लिए नहीं किया गया है. इसका एकमात्र मकसद दक्षिणपंथी पार्टियों को दूर रखना है. लोग जानते हैं कि दोनों पार्टियों ने पूर्व में कटुतापूर्वक एक-दूसरे का विरोध किया है और वे पूरी तरह से बिना निश्चित एजेंडे के चुनावी उद्देश्य के लिए एक साथ आई हैं. इस गठबंधन ने ‘महागठबंधन’ पर सवालिया निशान लगा दिए हैं और उसका भविष्य अनिश्चित बना दिया है. भविष्य ही बताएगा कि क्या एनसीपी प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावों से पहले अपने लिए कुछ कर पाएंगे.’’
मनीषा कायंद, शिवसेना प्रवक्ता 

इस बीच, एनसीपी नेता धनंजय मुंडे ने दावा किया कि बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ 2019 का लोकसभा चुनाव ‘‘दूसरा स्वतंत्रता संघर्ष'' होगा. महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता ने कहा, ‘‘इसके लिए सभी धर्मनिरपेक्ष दलों को एक साथ आना चाहिए और जिम्मेदारी से काम करना चाहिए. एसपी-बीएसपी-कांग्रेस और अन्य सभी एक जैसी विचारधारा वाले दलों को हमारे संविधान तथा लोकतंत्र की रक्षा के लिए एकजुट होना होगा.''

ये भी पढ़ें : SP-BSP गठबंधन पर बोले राहुल गांधीः पूरी ताकत से लड़ेगी कांग्रेस

(सबसे तेज अपडेट्स के लिए जुड़िए क्विंट हिंदी के WhatsApp या Telegram चैनल से)

Follow our पॉलिटिक्स section for more stories.

    वीडियो