तापसी-कश्यप के घर IT रेड पर विपक्षी नेता- ‘ये कोई नई बात नहीं’

कांग्रेस, NCP और RJD जैसी पार्टियों के नेताओं ने केंद्र सरकार की एजेंसी की इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं.

Published
एक्टर तापसी पन्नू और डायरेक्टर अनुराग कश्यप
i

एक्टर तापसी पन्नू और फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप के घर चल रही इनकम टैक्स रेड पर कई सारे विपक्षी नेताओं ने सवाल उठाए हैं. विपक्षी पार्टियों के नेता आरोप लगा रहे हैं कि इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी ऐसा केंद्र सरकार के इशारे पर कर रहे हैं और चूंकि कश्यप और तापसी का मत सरकार की नीतियों के खिलाफ रहता था, इसी वजह से ये कार्रवाई कराई जा रही है. कांग्रेस, NCP और RJD जैसी पार्टियों के नेताओं ने केंद्र सरकार की एजेंसी की इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं.

डायरेक्टर कश्यप और तापसी पन्नू के ठिकानों पर हुई आईटी रेड पर बोलते हुए NCP नेता नवाब मलिक ने कहा कि 'पिछले कई दिनों से अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ बोल रह थे उन्हें दबाने के लिए सरकार ने ये कार्रवाई की है.'

ताजा इनकम टैक्स रेड पर बोलते हुए कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि ये स्वतंत्र मामला नहीं है और ये रोज का हो गया है.

ये देश के लिए कोई नई बात नहीं है. आजकल रोज का यह मामला हो गया है कि जो भी केंद्र सरकार के खिलाफ अपनी भूमिका रखता है उसपर दबाव बनाने का यह माध्यम हो गया है.
अशोक चव्हाण, कांग्रेस नेता

RJD नेता तेजस्वी यादव ने भी तापसी और अनुराग के घर हो रही इनकम टैक्स विभाग की कार्रवाई को लेकर ट्वीट किया है. तेजस्वी ने लिखा-

उन्होंने पहले इकनम टैक्स, सीबीआई, ईडी को अपना नौकर बनाया और मुखर राजनीतिक आवाजों के चरित्र का हरण किया. अब ये नाजी सरकार सोशल एक्टिविस्ट, पत्रकारों और कलाकारों को डरा रही है.
तेजस्वी यादव, RJD नेता

तापसी और अनुराग सरकार के खिलाफ मुखर

बता दें कि अनुराग कश्यप, बहल और तापसी पन्नू सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खासे मुखर रहे हैं और वो 3 कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन को लेकर भी चिंता जता चुके हैं.

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक तापसी और अनुराग के साथ फिल्म मेकर विकास बहल के प्रॉपटी पर भी सर्च ऑपरेशन जारी है. ये रेड मुंबई के अलग-अलग इलाकों में हो रही है, ये छापेमारी फैंटम फिल्म्स से जुड़ी हुई बताई जा रही है. विभाग की कई टीमें फैंटम्स फिल्म्स समेत मुंबई और बाहर के 22 ठिकानों पर तलाशी ले रही हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!