ADVERTISEMENT

महाराष्ट्र-आपस में भिड़े 'पुराने साथी', शिंदे गुट-विपक्ष के बीच हाथापाई की नौबत

शिवसेना के महेश शिंदे और NCP के अमोल मितकारी के बीच हाथापाई की स्थिति आ गयी.

Published
महाराष्ट्र-आपस में भिड़े 'पुराने साथी', शिंदे गुट-विपक्ष के बीच हाथापाई की नौबत
i

महाराष्ट्र विधानसभा के बाहर बुधवार, 24 अगस्त को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के समर्थन वाले शिवसेना गुट और विपक्षी दलों के सदस्यों के बीच झड़प (Maharashtra Assembly Scuffle) हो गई. शिवसेना विधायक महेश शिंदे और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के एमएलसी अमोल मितकारी के बीच हाथापाई की स्थिति आ गयी. अमोल मितकारी ने आरोप लगाया है कि सत्तारूढ़ विधायकों ने उन्हें गाली दी है.

ADVERTISEMENT

महाराष्ट्र विधानसभा में क्यों हुआ बवाल?

महाराष्ट्र में विपक्ष लगातार एकनाथ शिंदे के खेमे वाले शिवसेना विधायकों पर पैसे लेकर पाला बदलने का आरोप लगाते रहे हैं. ऐसे में तानों और विरोध का जवाब देने के लिए बुधवार को मुख्य सचेतक भरत गोगावाले के नेतृत्व में शिंदे खेमे के शिवसेना विधायकों ने पिछले महा विकास अघाड़ी सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए विधानसभा के सामने जमा हो गए थे.

दूसरी तरफ एनसीपी विधायक भी राज्य सरकार का विरोध करते हुए तख्ती लेकर विधानसभा की सीढ़ियों पर नारेबाजी कर रहे थे.लेकिन जब शिंदे गुट के विधायकों ने नारेबाजी वाली तख्ती छीनने की कोशिश की तो हाथापाई शुरू हो गई. इस दौरान शिवसेना विधायक महेश शिंदे और एनसीपी के अमोल मितकारी के बीच झड़प हो गई.

शिंदे खेमे के विधायक भरत गोगावाले ने कहा है कि जब उनका विरोध चल रहा था तो विपक्ष के सदस्यों को उनके पास नहीं आना चाहिए था. उन्होंने कहा कि " उन्होंने पहले बहसबाजी शुरू की. वो इतने दिनों से विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे तो हमने कभी दखल नहीं दिया था."

एनसीपी के अमोल मितकारी ने कहा कि एमवीए ने सुबह 10.30 बजे विधायी भवन की सीढ़ियों पर विरोध करने का फैसला किया था.

“हम पर महेश शिंदे ने हमला किया और उसने मुझे गालियां दीं. यह बहुत ही आपत्तिजनक है. हम शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे थे.'
अमोल मितकारी

"शिंदे गुट के विधायकों को कानुन और लोकतांत्रिक मूल्यों की सीख दें"- सुप्रिया सुले

सांसद और एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने ट्वीट करते हुए कहा है कि "महाराष्ट्र की संस्कृति को अशोभनीय वर्तन सत्ताधारी विधेयकों ने किया है. महाराष्ट्र में कायदा व सुव्यवस्था बरकरार रहने के लिए राज्य के गृहमंत्री देवेंद्र फडणवीस जी से जल्द से जल्द चर्चा करें और हालात देखते हुए शिंदे गुट के विधायकों को कानुन और लोकतांत्रिक मूल्यों की सीख दें" (sic)

बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार, 25 अगस्त को खत्म होने वाला है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें