मुझे ‘भगवा’ रंग में रंगने की कोशिश हो रही है: रजनीकांत
मुझे ‘भगवा’ रंग में रंगने की कोशिश हो रही है: रजनीकांत
मुझे ‘भगवा’ रंग में रंगने की कोशिश हो रही है: रजनीकांत(फोटो : PTI)

मुझे ‘भगवा’ रंग में रंगने की कोशिश हो रही है: रजनीकांत

सुपरस्टार रजनीकांत ने शुक्रवार को कहा कि बीजेपी ने उन्हें पार्टी में शामिल होने का आमंत्रण नहीं दिया है लेकिन उन्हें “भगवा’’ रंग में रंगने के पूरे प्रयास किये जा रहे हैं. उन्होंने मीडिया और “कुछ लोगों” पर ऐसे प्रयास करने का आरोप लगाया. बीजेपी ने बयान दिया है कि पार्टी ने कभी ऐसा कोई दावा नहीं किया कि अभिनेता पार्टी में शामिल होने के लिए तैयार हैं. उधर, द्रमुक ने बयान दिया कि अभिनेता अपने बयान से किसके भगवा रंग से रंगे होने के संकेत दे रहे हैं?

दिग्गज अभिनेता ने हालिया तिरुवल्लुवर विवाद का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें और प्रसिद्ध संत-कवि तिरुवल्लुवर दोनों को ‘भगवा’ रंग में रंगने का प्रयास किया जा रहा है.

Loading...

वरिष्ठ बीजेपी नेता पोन राधाकृष्णन से हाल ही में हुई मुलाकात और उनके बीजेपी में शामिल होने को लेकर पूर्व में दिए गए बयान के बारे में सवाल पूछा गया तो रजनीकांत ने कहा कि ऐसा कोई आमंत्रण उन्हें नहीं मिला है. उन्होंने कहा ' कोई प्रस्ताव नहीं मिला है ( बीजेपी की ओर से पार्टी में शामिल होने के लिए)..बिल्कुल नहीं'

‘ मुझे बीजेपी के रंग में रंगने के प्रयास किए जा रहे हैं... तिरुवल्लुवर की तरह ही मुझे भी भगवा रंग में रंगने का प्रयास किया जा रहा है...न तो तिरुवल्लुवर और न ही मैं इसमें फसूंगा.’
रजनीकांत

मीडियाकर्मियों के दोबारा पूछने पर रजनीकांत ने कहा ‘‘कुछ लोग, कुछ मीडिया... वे मुझे बीजेपी समर्थक के रूप में भगवा रंगने की कोशिश कर रहे हैं’’ यह पूछे जाने पर कि मीडिया या बीजेपी, किसने उन्हें भगवा रंग में रंगने की कोशिश की? तो उन्होंने कहा ‘कुछ व्यक्ति.’

‘तिरुवल्लुवर धर्म और जाति की सीमाओं से परे एक संत थे.’
रजनीकांत

बता दें कि एक नवंबर को बीजेपी की तमिलनाडु इकाई ने अपने ट्विटर हैंडल पर तिरुवल्लुवर की रचना 'थिरुक्कुरल' का एक दोहा लिखा था जिसमें भगवान की पूजा नहीं करने पर शिक्षा के उपयोग पर सवाल उठाया गया था.

दोहे को टैग करते हुए, भगवा पार्टी ने कथित रुप से लोगों की आस्था को नुकसान पहुंचाने के लिए द्रविड़ कड़गम, द्रमुक और वामपंथी दलों पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि “उनकी शिक्षा का क्या उपयोग है?”

पार्टी ने अपने माथे पर पवित्र भभूत लगाए भगवा वस्त्र में तिरुवल्लुवर की तस्वीर पोस्ट की थी। इस मुद्दे के साथ बीजेपी , द्रमुक और अन्य विपक्षी दलों के बीच तनातनी चल रही थी.

इस प्रकरण के बारे में पूछे जाने पर अभिनेता ने कहा कि मीडिया ने इसे बड़ा बना दिया, जो मूर्खतापूर्ण है.

आखिर क्या कहा बीजेपी ने?

रजनीकांत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा ने कहा कि किसी से मिलना उसका लोकतांत्रिक अधिकार है.

‘अगर कोई पार्टी में शामिल होने में दिलचस्पी रखता है तो उसे जरुर आमंत्रित किया गया है. तमिलनाडु सहित देश की कई हस्तियां और प्रतिष्ठित व्यक्ति पार्टी में शामिल हो रहे हैं. यह बात स्पष्ट हो जानी चाहिए कि हमने रजनीकांत के पार्टी में शामिल होने या उनके इच्छुक होने की बात कभी नहीं कही. बीजेपी को ऐसे कयासों में कोई दिलचस्पी नहीं है.’
पी मुरलीधर राव, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव

डीएमके के कोषाध्यक्ष दुरई मुरुगन ने सुपरस्टार की टिप्पणी के जवाब में कहा कि यह रजनीकांत की व्यकितिगत राय है कि उन्हें बीजेपी के एक व्यक्ति के रूप में चित्रित करने का प्रयास किया जा रहा है . हमें नहीं पता कि रजनीकांत इस बात से क्या संकेत देना चाहते हैं.

इस बीच आर्थिक मंदी पर सवाल के जवाब में रजनीकांत ने कहा कि सरकार को इससे निपटने के लिए हरसंभव प्रयास करना चाहिए. गौरतलब है कि पिछले वर्ष उन्होंने नोटबंदी को सरकार का गलत कदम बताया था. सुप्रीम कोर्ट में लंबित रामजन्म भूमि मामले पर पूछने पर उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की.

नेतृत्व की कमी को स्टालिन ने भर दिया है?

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राज्य में शक्तिशाली नेतृत्व की कमी है. यही टिपण्णी उन्होंने वर्ष 2016 में जे जयललिता और 2018 में द्रमुक अध्यक्ष करुणानिधि के निधन पर की थी. डीएमके ने रजनीकांत के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि उनकी पार्टी के नेता एमके स्टालिन पहले से ही उस उचित नेतृत्व की कमी को पूरा कर चुके हैं.

यह भी पढ़े :रजनीकांत की ‘पेट्टा’ का हिंदी ट्रेलर रिलीज,एक्शन से भरपूर है फिल्म

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our पॉलिटिक्स section for more stories.

वीडियो

Loading...