कमलनाथ के इस्तीफे के बाद बोले-ज्योतिरादित्य-ये जनता की जीत है
ज्योतिरादित्य सिंधिया का ट्वीट
ज्योतिरादित्य सिंधिया का ट्वीट(फोटो: PTI)

कमलनाथ के इस्तीफे के बाद बोले-ज्योतिरादित्य-ये जनता की जीत है

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस्तीफे के ऐलान के बाद कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का कमल थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा "मध्य प्रदेश में आज जनता की जीत हुई है. मेरा सदैव ये मानना रहा है कि राजनीति जनसेवा का माध्यम होना चाहिए, लेकिन प्रदेश सरकार इस रास्ते से भटक गई थी. सच्चाई की फिर विजय हुई है. सत्यमेव जयते."

Loading...

मध्य प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से जारी सियासी ड्रामे का अंत हो गया. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस्तीफे का ऐलान कर दिया. इससे पहले देर रात विधानसभा स्पीकर ने सभी बागी कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा मंजूर कर लिया था. लेकिन फ्लोर टेस्ट की नौबत नहीं आई. कमलनाथ ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया.

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया में बीजेपी में जाने के बाद उनके समर्थक विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था. इनमें से 16 को कर्नाटक ले जाया गया था. इन विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था जिसे स्पीकर स्वीकार नहीं कर रहे थे. मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा, जहां कमलनाथ सरकार को बहुमत साबित करने को कहा गया. लेकिन शुक्रवार को फ्लोर टेस्ट से पहले ही कमलनाथ ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया.

ये है सीटों का गणित

मध्यप्रदेश के फिलहाल 228 विधायक हैं. इनमें से 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद सदन में 206 सीटें रह गई हैं. बहुमत के लिए 104 विधायकों के समर्थन की जरूरत है. बीजेपी इस वक्त 107 विधायकों के समर्थन का दावा कर रही है.

बीजेपी को 15 साल मिले और हमें सिर्फ 15 महीने : कमलनाथ

कमलनाथ ने कहा कि बीजेपी को 15 साल मिले और मुझे सिर्फ 15 महीने. हमारी सरकार बनी तो हर 15 दिन में बीजेपी कहते थे कि यह सरकार 15-30 दिन में चली जाएगी. कमलनाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि बीजेपी को यह रास नहीं आया. हमारे विधायकों को प्रलोभन दिया गया. उन्हें बंधक बनाया गया और साजिश करके हमारी सरकार को गिरा दिया गया. जनादेश का अपमान किया गया.

ये भी पढ़ें : ज्योतिरादित्य की बगावत से सचिन पायलट को हो सकता है फायदा

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our पॉलिटिक्स section for more stories.

    Loading...