ADVERTISEMENT

कहीं नहीं डॉक्टर तो कहीं खंडहर,UP के बीमार हेल्थ सिस्टम की 10 फोटो

यूपी के कई जिलों में बदहाल पड़े सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

Updated
राज्य
4 min read
UP Health System| यूपी में बदहाल पड़े सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र
i

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देशभर के अस्पतालों और सरकारी व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी. इलाज के लिए दर-दर भटकते मरीज और अस्पताल के बाहर उखड़ती सांसों ने राज्य और केंद्र सरकार के दावों की सच्चाई बताई. लेकिन इस सबके बावजूद सरकारें सब कुछ ठीक होने का दावा कर रही हैं. गांवों में स्वास्थ्य व्यवस्थाय और खस्ताहाल है. इसे दिखाने के लिए हमने यूपी के कुछ जिलों में मौजूद कुछ स्वास्थ्य केंद्रों का दौरा किया.

अयोध्या

जिला अयोध्या स्थित रुदौली कटरा हनुमान मंदिर के पास मौजूद इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर ही नहीं आते, इसीलिए यहां हमेशा लोगों को ताला ही लटका हुआ दिखता है.

रुदौली कटरा हनुमान मंदिर के पास मौजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
रुदौली कटरा हनुमान मंदिर के पास मौजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
(फोटो: क्विंट हिंदी)
रुदौली कटरा हनुमान मंदिर के पास मौजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के पीछे बना खंडहर 
रुदौली कटरा हनुमान मंदिर के पास मौजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के पीछे बना खंडहर 
(फोटो: क्विंट हिंदी)

अयोध्या जिले के ही रुदौली ब्लॉक के पकड़िया गांव में स्थित इस स्वास्थ्य केंद्र में कभी कोई डॉक्टर नहीं आते. यह सिर्फ पोलियो ड्रॉप देने के समय खुलता है. यहां सुविधा मिले तो आसपास के नौ गांव को लाभ होगा. फिलहाल ये पार्किंग और आराम करने के लिए इस्तेमाल हो रहा है. साथ ही पिछले हिस्से में जानवरों के चारा की व्यवस्था भी की गई है.

पकड़िया गांव में स्थित इस स्वास्थ्य केंद्र में कभी कोई डॉक्टर नहीं आते
पकड़िया गांव में स्थित इस स्वास्थ्य केंद्र में कभी कोई डॉक्टर नहीं आते
(फोटो: क्विंट हिंदी)
स्वास्थ्य केंद्र के पीछे गंदा पानी, जानवरों के लिए घास और कचरा
स्वास्थ्य केंद्र के पीछे गंदा पानी, जानवरों के लिए घास और कचरा
(फोटो: क्विंट हिंदी)
ADVERTISEMENT

सोनभद्र

सोनभद्र जिले के कोन क्षेत्र में तत्कालीन समाजवादी पार्टी सरकार में सदर विधायक अविनाश कुशवाहा ने 2015 में सीएचसी की स्वीकृति दी थी, जिसका टेंडर होते ही 2016 से निर्माण कार्य शुरू हुआ और दिसंबर 2019 मे बनकर तैयार हो गया. लेकिन आज तक भी यहां सिर्फ बिल्डिंग ही है. इस केंद्र में किसी डॉक्टर की पोस्टिंग नहीं हुई है. महामारी के दौरान भी यहां कोई डॉक्टर नहीं आया.

2019 मे बनकर तैयार हुए स्वास्थ्य केंद्र का हाल
2019 मे बनकर तैयार हुए स्वास्थ्य केंद्र का हाल
(फोटो: क्विंट हिंदी)
स्वास्थ्य केंद्र बनने के बाद यहां डॉक्टर का हो रहा इंतजार
स्वास्थ्य केंद्र बनने के बाद यहां डॉक्टर का हो रहा इंतजार
(फोटो: क्विंट हिंदी)
ADVERTISEMENT

झांसी

झांसी के करारी गांव में बना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भूतिया घोषित हो चुका है. यानी कहा जाता है कि भूत के डर की वजह से लोग यहां इलाज करवाने ही नहीं आते. साथ ही डॉक्टर भी इस अफवाह का पूरा फायदा उठा रहे हैं. ग्रामीण का कहना है कि अस्पताल में भूत और चुड़ैल रहते हैं जिस वजह से यहां कर्मचारी और डॉक्टर नहीं पहुंचते हैं. झांसी मुख्यालय से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर करारी में स्थित है.

 भूतिया घोषित हो चुका झांसी के करारी गांव का स्वास्थ्य केंद्र
भूतिया घोषित हो चुका झांसी के करारी गांव का स्वास्थ्य केंद्र
(फोटो: क्विंट हिंदी)
ADVERTISEMENT

फतेहपुर

जिला फतेहपुर के ऐरांया ब्लॉक के मोहम्मदपुर गौंती नाम के इस गांव में यह प्राथमिक केंद्र 3 साल पहले खुला. गांव के वर्तमान प्रधान कफील अहमद ने बताया कि दस बेड के इस अस्पताल में कोविड शुरू होने से पहले से डॉक्टर उपलब्ध नहीं है. पिछले एक साल से यहां ताला लगा हुआ है. लोगों को इलाज के लिए 10 किमी दूर या फिर झोलाछाप डॉक्टरों के पास जाना पड़ता है.

इस स्वास्थ्य केंद्र में पिछले 1 साल से डॉक्टर नहीं, लगा है ताला
इस स्वास्थ्य केंद्र में पिछले 1 साल से डॉक्टर नहीं, लगा है ताला
(फोटो: क्विंट हिंदी)

फतेहपुर के ही पीएचसी सरकंडी के स्वास्थ्य केंद्र का हाल तो कुछ ऐसा है कि यहां कभी इलाज ही नहीं हुआ. आज ये स्वास्थ्य केंद्र किसी खंडहर से कम नहीं लगता है.

कहीं नहीं डॉक्टर तो कहीं खंडहर,UP के बीमार हेल्थ सिस्टम की 10 फोटो
ADVERTISEMENT

ललितपुर

अब यूपी के जिला ललितपुर की बात करें तो यहां के कस्बा नाराहट छेत्र के अंतर्गत ग्राम डोगरा खुर्द में लाखों की लागत से अस्पताल तैयार हुआ. लेकिन इसके बाद से ही डॉक्टरों के अभाव में ये बंद पड़ा है.

नाराहट छेत्र के अंतर्गत ग्राम डोगरा खुर्द में लाखों की लागत से बना अस्पताल बंद पड़ा है
नाराहट छेत्र के अंतर्गत ग्राम डोगरा खुर्द में लाखों की लागत से बना अस्पताल बंद पड़ा है
(फोटो: क्विंट हिंदी)
ADVERTISEMENT

जनपद ललितपुर की ही एक तहसील मड़ावरा के अंतर्गत आने वाले ग्राम गिरार‌ में डॉक्टरों के अभाव के कारण चिकित्सा सुविधा से नहीं मिल रही है. स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां डॉक्टर हफ्तों में आते हैं इसलिए ज्यादातर अस्पताल बंद ही पड़ा रहता है.

ज्यादातर वक्त बंद ही पड़ा रहता है तहसील मड़ावरा के अंतर्गत आने वाले ग्राम गिरार‌ का ये स्वास्थ्य केंद्र
ज्यादातर वक्त बंद ही पड़ा रहता है तहसील मड़ावरा के अंतर्गत आने वाले ग्राम गिरार‌ का ये स्वास्थ्य केंद्र
(फोटो: क्विंट हिंदी)
ADVERTISEMENT

जालौन

जालौन जिले के महेबा का ये चुर्खी गांव ऐतिहासिक है, क्योंकि यहीं रानी लक्ष्मी बाई ने अपनी पीठ पर बच्चे को बांधा था. यहां उनकी बहन का ससुराल है. लेकिन यहां के स्वास्थ्य केंद्र में सिर्फ फर्स्ट एड की सुविधा है. दवाओं और ऑक्सीजन की कोई सुविधा नहीं है. जबकि 7 हजार लोगों की आबादी पर ये एक अस्पताल है.

कहीं नहीं डॉक्टर तो कहीं खंडहर,UP के बीमार हेल्थ सिस्टम की 10 फोटो

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT