राज्यसभा में टला तीन तलाक बिल, अगले सत्र में होगा पेश
राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित
राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित(फोटोः ANI)
Live

राज्यसभा में टला तीन तलाक बिल, अगले सत्र में होगा पेश

संसद के मॉनसून सत्र का आज आखिरी दिन है. केंद्र सरकार आज राज्यसभा में तीन तलाक बिल पेश कर सकती है. मोदी कैबिनेट ने गुरुवार को इस बिल में कुछ संशोधन किए हैं, जिसके बाद अब इस बिल के पास होने की उम्मीद जताई जा रही है.

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने इस बिल में कई तरह की कमियां बताई थीं, जिसके बाद बिल को संशोधित किया गया है.

NEWEST FIRSTOLDEST FIRST
(3) NEW UPDATES

राज्यसभा में राफेल डील को लेकर विपक्ष के भारी हंगामे की वजह से तीन तलाक बिल पेश नहीं हो सका. उच्च सदन में आम सहमति न बन पाने के कारण तीन तलाक बिल टल गया है. अब इसे शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा.

मॉनसून सत्र के आखिरी दिन विपक्ष के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी. दूसरी बार की कार्यवाही उपसभापति ने दोपहर 2.30 बजे तक के लिए स्थगित की थी. कार्यवाही दोबारा शुरू होने के बाद भी हंगामा न रुकने पर सभापति ने साफ कर दिया कि इस बिल को आज नहींं लिया जाएगा.

राफेल डील मुद्दे पर हंगामा, राज्यसभा 2ः30 बजे तक स्थगित

राज्यसभा में विपक्ष के लगातार हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही दोपहर 2ः30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है.

राफेल डील को लेकर विपक्ष सरकार पर आक्रामक है. सदन में राफेल डील पर बहस कराने को लेकर विपक्ष सदन की कार्यवाही के दौरान लगातार हंगामा करती रही.

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने राफेल डील को लेकर मोदी सरकार पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि राफेल डील में मोदी सरकार ने बड़ा घोटाला किया है, इस पर बहस जरूर होनी चाहिए.

उपसभापति हरिवंश ने राज्यसभा में राफेल डील पर चर्चा से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि सभापति ने इस मुद्दे पर चर्चा की इजाजत नहीं दी है.

कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई का विवादित बयान

कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई ने तीन तलाक बिल को लेकर विवादित बयान दिया है. दलवई ने कहा कि महिलाओं के साथ भेदभाव हर समाज है. केवल मुसलमानों में ही नहीं, हिंदू, क्रिश्चियन और सिख समाज में भी महिलाओं के साथ भेदभाव होता है.

दलवई ने कहा कि शक के आधार पर श्री रामचंद्र जी ने भी सीताजी को छोड़ दिया था. हर धर्म में पुरुषों का वर्चस्व है तो ऐसे में इस्लाम पर ही सवाल क्यों?
हुसैन दलवई, कांग्रेस सांसद 

तीन तलाक पर हमारी पार्टी का रुख बिल्कुल साफः सोनिया गांधी

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने संसद परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि तीन तलाक को लेकर हमारी पार्टी का रुख बिल्कुल साफ है. उन्होंने कहा कि फिलहाल वह इस मुद्दे पर ज्यादा कुछ नहीं कह सकती हैं.

तीन तलाक बिल को लेकर संसद में बीजेपी की बैठक

तीन तलाक बिल को लेकर राज्यसभा में सरकार की रणनीति को लेकर बीजेपी ने बैठक बुलाई है. इस बैठक में बीजेपी चीफ अमित शाह, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अनंत कुमार, रविशंकर प्रसाद, मुख्तार अब्बास नकवी, विजय गोयल और अर्जुन मेघवाल समेत अन्य बीजेपी नेता शामिल हो रहे हैं.

क्या है ट्रिपल तलाक बिल?

अगस्त, 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने ट्रिपल तलाक पर 6 महीने के लिए रोक लगा दी थी और केंद्र सरकार से कहा था कि वो 6 महीनों के अंदर ट्रिपल तलाक पर कानून लेकर आए. 2017 में संसद शीतकालीन सत्र के दौरान 28 दिसंबर 2017 को लोकसभा में 'द मुस्लिम विमेन (प्रोटेक्शन एंड राइट्स ऑन मैरेज) बिल 2017' पारित भी हो गया था. इस बिल के तहत एक बार में ट्रिपल तलाक देने पर पति को तीन साल तक की सजा का प्रावधान है.

लोकसभा ने तो इसे पारित कर दिया था, लेकिन पिछले सत्र में बिल राज्यसभा में भेजा गया और वहां विपक्ष की ताकत ज्यादा है इसलिए वहां ये पास नहीं हो सका था. कांग्रेस समेत पूरे विपक्ष ने बिल में कई खामियां बताते हुए इसे सलेक्ट कमेटी को भेजे जाने की मांग की थी. लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नहीं हुई.

ये भी पढ़ें-

‘ट्रिपल तलाक’ पर SC ने क्या कहा था, समझिए आसान लैंग्‍वेज में

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our न्यूज section for more stories.