'नोमैडलैंड','द फादर'..., 93वां ऑस्कर जीतने वाली फिल्मों का परिचय

बेस्ट डॉक्यूमेंट्री फीचर जीतने वाली 'माय ऑक्टोपस टीचर' का है इंडिया कनेक्शन

Published
'नोमैडलैंड','द फादर'..., 93वां ऑस्कर जीतने वाली फिल्मों का परिचय

93वें ऑस्कर अवॉर्ड्स की घोषणा हो चुकी है. एक ही फिल्म 'नोमैडलैंड' को छप्परफाड़ पुरस्कार मिले हैं. भारत की तरफ से जिस कैटेगरी में मलयालम फिल्म जलीकट्टू गई थी उसमें 'अनदर राउंड' को कामयाबी मिली. तो आइए इन तमाम फिल्मों और लोगों के बारे में आपको बताते दैं जिनके सिर इस बार सजा है ऑस्कर का ताज...

इस बार का ऑस्कर अवार्ड समारोह अलग अंदाज में हुआ .कोरोना के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए बिना दर्शकों के हुए इस समारोह का आगाज Regina king ने किया और अंत Joaquin Phoenix द्वारा बेस्ट एक्टर अवार्ड की घोषणा के साथ हुआ.

बेस्ट फिल्म- नोमैडलैण्ड

यह फिल्म Chloe Zhoe की लिखी, एडिटेड ,प्रोड्यूस्ड और डायरेक्टरेट है. यह फिल्म अमेरिकी आर्थिक मंदी के बाद की कहानी कहती है, जहां अभिनेत्री Frances McDormand की किरदार 'फर्न' अपने वैन को ही अपना चलता फिरता घर बना लेती हैं और निकल पड़ती हैं घुमक्कडों की जिंदगी जीने ,जिनमें साथ आते हैं कई नये किरदार और किस्से.

इस फिल्म की खूबसूरती इसका अव्यवस्थित होना है. रियल लाइफ नोमैड गुरु बॉब वेल्स की बात इस फिल्म की हकीकत बयां करती है .वह कहते हैं "एक बात जो मुझे इस घुमक्कड़ जीवन के बारे में सबसे ज्यादा प्यारी है ,वह यह है कि यहां कभी फाइनल गुडबाय नहीं होता. मैं सैकड़ों लोगों से मिला उस रास्ते में और मैंने कभी किसी को फ़ाइनल गुड बाय नहीं बोला. मैं यही कहता हूं कि हम फिर मिलेंगे और वे मिल भी जाते हैं."

यह फिल्म 2017 में जेसिका ब्रूडर की नॉन फिक्शन किताब नोमैडलैण्ड: सरवाइविंग अमेरिका इन द ट्वेंटी फर्स्ट सेंचुरी पर आधारित हैं.Zhao इस किताब के असली किरदारों से मिली और उन्हें इस फिल्म में भी कास्ट किया. Chloe Zhao ऐसे लोगो को अपने फिल्मों में जरूर कास्ट करती है जो असल में एक्टर नही है परंतु जो नैसर्गिक भाव अपनी सच्ची अभिव्यक्ति द्वारा प्रस्तुत करते हैं.नोमैडलैण्ड के अधिकतर किरदार असली बंजारे है और इसलिए सच्चे भी.

बेस्ट डायरेक्टर - Chloe Zhao

नोमैडलैण्ड के लिए बेस्ट डायरेक्टर का ऑस्कर जीतकर Chloe Zhao इस कैटेगरी में जीतने वाली पहली 'वुमन ऑफ कलर ' हो गयी हैं.बिजिंग में जन्मीं, ब्रिटेन में पढ़ी लिखी और अब अमेरिका में रह रही Zhao की यह तीसरी फिल्म है.

Zhao की फिल्मों का एक हॉलमार्क है.वो अपनी फिल्मों के माध्यम से पर्दे पर हाशिये पर जी रहे लोगों की कहानी रखती हैं. उनके अधिकतर एक्टर दरअसल नॉन एक्टर होते है और इस कारण उनके एक्सप्रेशन इकदम जमीनी होते है.ऐसे सीनों को Zhao खुले स्पेस में शूट करती है.

हालांकि Zhao के जीतने के बाद चीन में राष्ट्रवादियों के घोर विरोध के बाद चाइनीज सोशल मीडिया से Zhao और नोमैडलैण्ड का नाम,जिक्र पूरी तरह से हटा दिया गया है.

बेस्ट ऐक्ट्रेस- Frances McDormand

63 वर्षीय Frances को नोमैडलैण्ड में उनके अदाकारी के लिए बेस्ट ऐक्ट्रेस का ऑस्कर मिला.इसमें उन्होंने इक विधवा का किरदार निभाया है जो अमेरिकी आर्थिक मंदी के बाद अपने वैन को चलते फिरते घर में बदल एक बंजारे की जिंदगी जीने निकल पड़ती है.

यह Frances का तीसरा ऑस्कर है और बेस्ट ऐक्ट्रेस कैटेगरी में दूसरा.इसके पहले उन्हें Three Billboards outside Ebbing, Missouri के लिए बेस्ट ऐक्ट्रेस का ऑस्कर मिला था.

बेस्ट ऐक्टर- एन्थनी हॉपकिंस

83 वर्षीय एन्थनी हॉपकिंस ने 'द फादर' के लिए बेस्ट ऐक्टर का ऑस्कर जीतकर सबसे ज्यादा उम्र में बेस्ट ऐक्टर जीतने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. यह उनका दूसरा बेस्ट ऐक्टर अवार्ड है.उनको इससे पहले 'दी साइलेंस ऑफ दी लैम्बस्' लिए बेस्ट ऐक्टर का ऑस्कर मिला था.

दी फादर' में उनका किरदार एक उम्रदराज पितृसत्तात्मक सोच वाले इंसान का है जो डिमेंशिया से जूझ रहा है. यह फिल्म Zeller द्वारा लिखित इसी नाम के एक नाटक पर आधारित है.

कोरोना और अपनी ज्यादा उम्र के कारण एन्थनी पुरस्कार लेने स्वयं नहीं आ सके.

93वां ऑस्कर और इंडियन कनेक्शन

मलयालम फिल्म जलीकट्टू भारत की ओर से 2021 ऑस्कर में ऑफिशियल ऐन्ट्री थी. वह बेस्ट इंटरनेशनल फीचर फिल्म कैटेगरी(जिसे पहले बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज फिल्म कहा जाता था) में भेजी गई थी, परंतु फरवरी 10 को यह ऑस्कर रेस से बाहर हो गयी. बेस्ट इंटरनेशनल फिल्म में नॉमिनेशन(बेस्ट पांच)तक पहुंचने वाली भारत की पिछली फिल्म 2001 में आई आशुतोष गवारिकर की लगान थी.

इस बार इस कैटेगरी में 'अनदर राउंड' ने बाजी मारी.यह एक कॉमेडी ड्रामा फिल्म है जिसका निर्देशन थॉमस विंटरबर्ग ने किया है.यह डेनमार्क, नीदरलैंड और स्वीडन के अंतरराष्ट्रीय को-प्रोडक्शन में बनी फिल्म है.

इसके अलावा बेस्ट डॉक्यूमेंट्री फीचर अवार्ड जीतने वाली डॉक्यूमेंट्री 'माय ऑक्टोपस टीचर' की प्रोडक्शन मैनेजर स्वाति थियागराजन भारत की ऑस्कर कनेक्शन है .स्वाति इससे पहले एनडीटीवी के 'बॉर्न वाइल्ड 'सीरीज में काम कर चुकी है जहां वह स्क्रिप्ट राइटर, डायरेक्टर और प्रजेंटर थीं.यह भारत में कनजर्वेशन के उपर लगातार 10 साल तक न्यूज नेटवर्क पर चलने वाली अकेली डॉक्यूमेंट्री सीरीज थी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!