इटली में इतनी ज्यादा मौतें क्यों? लगभग सारे कारण भारत में मौजूद
भारत में कोरोनावायरस के मामलों में बढ़ोतरी लगातार जारी है
भारत में कोरोनावायरस के मामलों में बढ़ोतरी लगातार जारी है(फोटो: पीटीआई)

इटली में इतनी ज्यादा मौतें क्यों? लगभग सारे कारण भारत में मौजूद

इटली में कोरोनावायरस का कहर जारी है. वहां से लगातार डराने वाले आंकड़े सामने आ रहे है. इटली में सोमवार को कोरोनावायरस के संक्रमण से 602 लोगों की और मौत हुई. इसके साथ ही इटली में कोरोनावायरस से मौत का आंकड़ा बढ़कर 6,077 हो गया है.

Loading...

हालांकि राहत की बात यह है कि इटली में लगातार दूसरे दिन मरने वालों की तादाद में कमी आई है. इससे पहले शनिवार को इस वायरस के कारण अब तक 793 सबसे अधिक मौते हुई थी. लेकिन इटली से जो आंकड़े आए है उसको देखकर भारत को सावधान रहने की जरूरत है. इटली में ज्यादा मौतों की जो बड़ी वजह है वह भारत में भी मौजूद है.

इटली के लगभग सारे कारण भारत में है

  • इटली में देर से लॉकडाउन हुआ. भारत में भी सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान देर से किया. लॉकडाउन के बाद भी सख्ती से पालन करने के लिए सरकार को चेतावनी देनी पड़ रही है.
  • इटली में कोरोनावायरस से हुई मौत में बुजुर्गों की संख्या ज्यादा है. वहीं भारत में बुजुर्गों की एक बड़ी आबादी है.
  • इटली में कोरोनावायरस के टेस्टिंग सेंटर की कमी देखी गई. भारत में भी लगभग यही हालात है.
  • पारिवारिक बॉन्डिंग की वजह से भारत में लॉकडाउन के बाद घर लौटने वालों की रेलवे स्टेशन पर लाइन लग गई. यही हमें चीन में देखने को मिला था. जिसके बाद ये वायरस एक शहर से दूसरे शहर में फैल गया था.
  • कमजोर चिकित्सा व्यवस्था भारत में अगर आने वाले दिनों में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती है तो इस बीमारी को काबू में करना कड़ी चुनौती होगी.
  • इटली में स्वास्थय सेवाओं की स्थित काफी अच्छी नहीं है एक साथ कई मामले सामने आने से हॉस्पिटल की स्थित खस्ता हो गई. बेड और आइसोलेशन वार्ड कम पड़ गई थी.

"पीयूली यूनिवर्सिटी के पीलूइगि लोपल्को ने कहा, अन्य देशों को निकट से देखना चाहिए, हम इटली में जो देख रहे हैं, वही पहले चीन में देख चुके हैं. मुझे डर है कि हम आने वाले हफ्तों में दूसरे देशों में भी ये सब देखने को न मिले. चीन के बाद, इटली पहला देश है जहां इस महामारी का प्रकोप सबसे ज्यादा है.

यूके में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या में 54 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. यहां अब तक कुल 6650 मामले सामने आए है. जबकि 335 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने देश के सभी नागरिकों से घर पर रहने के आदेश दिये है.

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका में 495 लोगों की मौत हुई है वहीं 35,000 मामले सामने आए है. दुनिय भार में COVID-19 कोरोना वयारस से अब तक 15,400 से अधिक लोगों की मौत हुई है. जॉन्स होप्स यूनिवर्सिटी के अनुसार इस वायरस से पीड़ित 362,000 लोगों में से अब तक लगभग 100000 लोग अपने इलाज के बाद ठीक हुए है.

तेजी से फैल रहा कोरोनावायरस

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, कोविड-19 महामारी तेजी से फैल रही है. इसने पहले एक लाख मरीजों का आंकड़ा छूने में जहां 67 दिन का वक्त लिया वहीं दो लाख की संख्या तक केवल 11 दिन में पहुंच गई. यह गिनती महज चार दिन के भीतर 3 लाख से पार हो गई है. दुनिया के लगभग सभी देश इससे प्रभावित हैं.

ये भी पढ़ें- कोरोनावायरस का कहर: भारत में अब तक 492 कन्फर्म केस, 9 मौत

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our दुनिया section for more stories.

    Loading...