‘I Have a Dream’ वो भाषण जिसे दुनिया 55 साल बाद भी सुन रही है

महात्मा गांधी से प्रेरित थे अमेरिका के महान सिविल राइट्स नेता 

Updated15 Jan 2020, 02:14 AM IST
दुनिया
1 min read

ये विश्वास करना कठिन है कि दुनिया का सबसे ताकतवर और धनी देश अमेरिका महज 55 साल पहले गोरे और काले लोगों के बीच खड़ी नफरत की दीवार को तोड़ने के लिए संघर्ष कर रहा था. अश्वतों की गुलामी खत्म करने के लिए छिड़े सिविल वॉर के बावजूद कालों को समान नागरिक अधिकार हासिल करने के लिए खून बहाना पड़ रहा था. काले लोगों की मुक्ति की इस लड़ाई को आवाज दे रहे थे मार्टिन लूथर किंग जूनियर.

1963 में अफ्रीकी अमेरिकी समुदाय के हकों की मांग को लेकर वाशिंगटन सिविल राइट्स मार्च किया गया. इस मार्च के दौरान 28 अगस्त 1963 ने मार्टिन लूथर किंग ने उन अब्राहम लिंकन मेमोरियल की सीढ़ियों पर खड़े होकर एक भाषण दिया था, जिन्होंने देश में गुलामी प्रथा खत्म की थी. इस महान भाषण को ‘I Have a Dream’ भाषण के नाम से जाना जाता है. यह अमेरिकी सिविल राइट्स आंदोलन का सुनहरा अध्याय है. इस भाषण और मार्च के चलते किंग उस साल टाइम्स पर्सन ऑफ द इयर बने. 1964 में वो सबसे छोटी उम्र में नोबेल प्राइज़ जीतने वाले नेता बने. मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने महात्मा गांधी से प्रेरित होकर सिविल राइट आंदोलन छेड़ा था.

किंग का ये भाषण बाद में द वॉशिंगटन पोस्ट में छपा था. यहां पेश है उस ऐतिहासिक भाषण के कुछ शानदार अंश. ये शब्द आज भी अपने अधिकारों के लिए लड़ने वालों के लिए प्रेरणा बने हुए हैं.

  • 01/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 02/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 03/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 04/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 05/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 06/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 
  • 07/07
    क्विंट हिंदी/रोहित मौर्य 

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 27 Aug 2018, 05:11 PM IST
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!