नीतीश कैबिनेट में करीबी सुशील मोदी के न होने के मायने क्या हैं?

अपने ‘राइट-हैंड’ सुशील कुमार के न होने की वजह से नीतीश का ये कार्यकाल कैसा हो सकता है?

Published
पॉडकास्ट
1 min read
 अपने ‘राइट-हैंड’ सुशील कुमार के न होने की वजह से नीतीश का ये कार्यकाल कैसा हो सकता है?
i

रिपोर्ट: फबेहा सय्यद
सीनियर डेस्क राइटर: वैभव पलनीटकर
म्यूजिक: बिग बैंग फज

नीतीश कुमार सातवीं बार और लगातार चौथी बार बिहार राज्य के मुख्यमंत्री बन गए हैं. लेकिन इस बार उनके साथ उनके राइट-हैंड बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ नहीं ली. सुशील मोदी की जगह तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को ये पद दिया गया है. इन दोनों के बारे में तफ्सील से सुनिए आज के पॉडकास्ट में.

साथ ही जानिए कि आखिर बिहार NDA में अब बड़े भाई की भूमिका में बीजेपी ने सुशील कुमार को किस बात की सजा दी है? और अपने 'राइट-हैंड' सुशील कुमार के न होने की वजह से नीतीश के इस कार्यकाल में क्या-कुछ बदल सकता है?

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!