(फोटोः Twitter)
| 2 मिनट में पढ़िए

अखिलेश 3 महीने तक नहीं देंगे मुलायम को पार्टी चीफ की कुर्सीः लालू

समाजवादी पार्टी में जारी घमासान के बीच कई लोग पिता-पुत्र के बीच समझौता कराने की कोशिश में लगे हुए हैं. आजम खान और बेनी वर्मा जैसे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से लेकर मुलायम के समधी और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू यादव की भी कोशिश है कि किसी भी तरह मुलायम और अखिलेश के बीच सुलह का कोई रास्ता निकले और पार्टी टूटने से बच जाए.

समझौते की कोशिश में लगे लालू ने सपा संग्राम को लेकर बड़ा बयान दिया है. लालू के मुताबिक, सीएम अखिलेश ने स्पष्ट कर दिया है कि वह अगले तीन महीने तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे. लालू यादव ने सोमवार शाम अखिलेश यादव से लंबी बात की थी.

लालू ने कहा- अखिलेश ने दो टूक कह दिया है कि फिलहाल वह अगले तीन महीने तक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे. विधानसभा चुनाव के बाद वह खुद पार्टी की बैठक बुलाकर पिता मुलायम को अध्यक्ष की कुर्सी दे देंगे.

लालू ने पहले भी की थी सुलह की कोशिश

अक्टूबर महीने में खुलकर सामने आई पार्टी के अंदर की फूट के बाद से लगातार लालू अपने समधी मुलायम और उनके बेटे अखिलेश के संपर्क में हैं. पार्टी के रजत जयंती समारोह में भी लालू यादव सार्वजनिक मंच पर अखिलेश-मुलायम के बीच सुलह की कोशिश करते दिखे थे. लालू ने सार्वजनिक मंच से एकजुटता का संदेश देने के लिए अखिलेश से पिता मुलायम और चाचा शिवपाल के पैर भी छूने को कहा था, जिसे उन्‍होंने माना भी था.

'कुनबे में कलह के लिए अमर सिंह जिम्मेदार'

लालू यादव का कहना है कि अखिलेश का अपने पिता मुलायम के साथ पहले जैसा ही रिश्ता है. उन्होंने मुलायम सिंह यादव को भी सूझबूझ वाला नेता बताते हुए परिवार में कलह के लिए अमर सिंह को जिम्मेदार ठहराया है.

लालू यादव ने कहा- अमर सिंह केवल टीवी पर कविता कहते रहते हैं. जब सत्ता हाथ में हो, तब बिगाड़ने का काम नहीं करना चाहिए. कोशिश करनी चाहिए कि सबको मिला लिया जाए.

लालू यादव की ओर से अखिलेश के स्टैंड को लेकर दिए गए बयान के बाद माना जा रहा है कि मुलायम सिंह यादव को विधानसभा चुनाव तक पार्टी प्रमुख की गद्दी से दूर रहना पड़ सकता है.