(फोटो : BCCI)
| 4 मिनट में पढ़िए

कैप्टन धोनी का आखिरी मैच: सच में तुम महान हो ‘माही’

टीम इंडिया के कैप्टन महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी आखिरी कप्तानी पारी में इंग्लैंड के महान क्रिकेटर माइकल वॉन के शब्दों को एक बार फिर सच साबित कर दिया. वनडे सीरीज से पहले इंग्लैंड के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में इंडिया ए के लिए कप्तानी करते हुए धोनी ने सिर्फ 40 गेंदों में ताबड़तोड़ 68 रन बनाए और कप्तान के तौर पर अपनी आखिरी पारी को यादगार बना दिया.

धोनी की आतिशी पारी का आलम ये था कि 50वें ओवर की 6 गेंदों में उन्होंने 23 रन ठोक दिए.

इंग्लैंड के महान कप्तान माइकल वॉन ने धोनी के बारे में कहा था- धोनी वर्ल्ड क्रिकेट के सबसे कूल खिलाड़ी हैं, वो तब कमाल करते हैं जब उसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है

खेल की दुनिया में कोई भी बड़ा कप्तान जब कप्तानी को अलविदा कहता है तो उसकी टीम में खेले खिलाड़ी बेशक उसकी तारीफ में बड़े-बड़े शब्द कहते हैं. लेकिन उस कप्तान का असली कद तब पता लगता है जब मैदान पर रहे उसके विरोधी भी उसके कायल हो जाएं.

(फोटोः BCCI)
(फोटोः BCCI)

तमाम आंकड़े बताते हैं कि धोनी भारत के लिए अबतक के सफलतम कप्तान थे. लेकिन ऐसी कौन सी प्रतिभा थी जो उन्हें पुराने किसी भी कप्तान से ज्यादा बड़ा बनाती है?

वर्ल्ड क्रिकेट में एक कप्तान के तौर पर धोनी की बेजोड़ सफलता के पीछे आखिर राज क्या रहा?

हसी

'मिस्टर क्रिकेट' के नाम से मशहूर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज माइकल हसी मानते हैं कि धोनी हमेशा खिलाड़ियों को नया नजरिया देते थे.

आईपीएल में धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेल चुके माइकल हसी के मुताबिक, “धोनी की कप्तानी में खेलते हुए मुझे बहुत मजा आया. वो खिलाड़यों को ये बात अच्छे से समझाते थे कि क्रिकेट महत्वपूर्ण है लेकिन निजी जिंदगी में सबसे जरूरी नहीं.”

हसी का मानना है कि धोनी का शांत स्वभाव ही उनकी सबसे बड़ी ताकत है,वो हमेशा खिलाड़ियों को अच्छा फील कराते थे और जीत हार के दबाव से दूर रखते थे.

रैना

धोनी की कप्तानी में लंबे अरसे तक खेलने वाले टीम इंडिया के स्टार क्रिकेटर सुरेश रैना ने भी उनकी कप्तानी के बारे में लाजवाब शब्द कहे.

रैना के मुताबिक ‘’धोनी वो कप्तान रहे जिन्होंने सपनों को हकीकत में बदला.धोनी हमेशा ही खिलाड़ी को ज्यादा सपने लेने, ज्यादा मेहनत करने और ज़िंदगी में बड़ा बनने के लिए प्रेरित करते थे’’. जिसका नतीजा ये होता था कि खिलाड़ी अपनी पूरी जी जान से जुट जाता था.

रहाणे

टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज अजिंक्या रहाणे ने भी धोनी की कप्तानी की जमकर तारीफ की.

रहाणे के मुताबिक, “एक बड़ा लीडर वो होता है जो मंजिल पाने के लिए रास्ता ढूंढता है , उसपर चलता है और फिर दूसरों को उसपर चलने के लिए प्रेरित करता है.”

“सिर्फ बड़े बड़े खिताब जीतना ही एक कप्तान की पहचान नहीं होती बल्कि असली लीडर वो होता है जो अपनी टीम का ध्यान हमेशा मंजिल की ओर लगाए और खिलाड़ियों को प्रेरित करे’’ - रहाणे

धोनी की हमेशा ये खासियत रही है कि मुश्किल जिम्मेदारियों को उन्होंने अपने कंधों पर उठाया और टीम के दूसरे युवा खिलाड़ियों को हमेशा अतिरिक्त दबाव से मुक्त रखा. यही कारण रहा कि धोनी की कप्तानी में ही विराट कोहली,रोहित शर्मा, अजिंक्या रहाणे,आर अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे सितारों ने दुनिया के मानचित्र पर अपनी छाप छोड़ी.