ऋषभ पंत किसी को दोष नहीं दे सकते, खुद करियर संवारना होगाः कपिल देव
कपिल देव ने कहा कि पंत सिर्फ खूब सारे रन बनाकर ही लोगों को गलत साबित कर सकते हैं
कपिल देव ने कहा कि पंत सिर्फ खूब सारे रन बनाकर ही लोगों को गलत साबित कर सकते हैं(फोटोः IANS)

ऋषभ पंत किसी को दोष नहीं दे सकते, खुद करियर संवारना होगाः कपिल देव

अपनी कप्तानी में भारत को पहला वर्ल्ड कप दिलाने वाले पूर्व कप्तान कपिल देव का मानना है कि युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को खुद ही अपने आलोचकों को जवाब देना होगा. कपिल ने कहा कि पंत किसी और को दोष नहीं दे सकते.

Loading...

वर्ल्ड कप के बाद से ही सीमित ओवरों में एमएस धोनी की जगह भारतीय टीम में विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी निभा रहे ऋषभ पंत को हाल ही में प्लेइंग इलेवन में अपनी जगह गंवानी पड़ी. पंत के अनियमित प्रदर्शन और विकेट के पीछे हो रही गलतियों के कारण टीम मैनेजमेंट ने केएल राहुल को दोहरी भूमिका सौंपी है.

इस बीच चेन्नई में एक कार्यक्रम के दौरान कपिल देव ने कहा कि पंत को खुद ही अपना करियर संवारना होगा. कपिल ने कहा,

“वे (पंत) बेहद प्रतिभाशाली हैं और वे किसी को दोषी नहीं ठहरा सकते हैं. उन्हें खुद ही अपना करियर संवारना होगा. उसका एक ही रास्ता है कि वे रन बनाएं. वे ऐसा करके ही लोगों को गलत साबित कर सकते हैं.”

उन्होंने साथ ही कहा, "जब आप प्रतिभाशाली होते हैं तो लोगों को साबित करना आपका काम होता है. खिलाड़ियों को खुद का आकलन करना होगा. उन्हें चयनकर्ताओं को टीम से बाहर करने या आराम देने का विकल्प कभी नहीं देना चाहिए."

पंत की जगह लोकेश राहुल को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी सौंपे जाने पर पूर्व कप्तान ने कहा, "इस पर फैसला लेना टीम मैनेजमेंट का काम है. मुझे इस बारे में नहीं पता. यह मेरा फैसला नहीं है. टीम तय करती है कि कौन ओपनिंग करेगा और कौन नंबर तीन पर बल्लेबाजी करेगा."

राहुल ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के तीनों मैचों में विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी भी निभाई थी. इस दौरान बल्ले के साथ ही विकेट के पीछे भी उनका प्रदर्शन बेहतर रहा, जिसके चलते टीम मैनेजमेंट ने न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज के लिए भी राहुल को ही विकेटकीपर नियुक्त किया.

ये भी पढ़ें : इस मैच में पिच भी अलग थी और मेरी जिम्मेदारी भी अलग थीः केएल राहुल

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our क्रिकेट section for more stories.

    Loading...