KKR Vs SRH : IPL 2020 का सबसे महंगा खिलाड़ी होने का दर्द

पैट कमिंस को कोलकाता नाइटराइडर्स ने 15 करोड़ से ज्यादा रुपयों में खरीदा था

Updated
स्पोर्ट्स
3 min read
पैट कमिंस की बोली लगी थी 15.5 करोड़ रुपये
i

ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस(PAT CUMMINS) की गिनती क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में एक धाकड़ गेंदबाज की होती है. आईपीएल 2020 का आक्शन हुआ तो कमिंस ने इतिहास रच दिया जब उन पर KKR ने 15.5 करोड़ की बोली लगाई. लेकिन, कमिंस पर दबाव भी उसी दिन से बनना शुरु हो गया. आईपीएल (IPL) में करोड़पति बनना तो आसान है लेकिन अपने ऊपर खर्च किये जाने वाले पैसे को अपनी फ्रैंचाइजी के लिए वसलू करवाना बेहद मुश्किल. कमिंस जैसा वर्ल्ड-क्लास गेंदबाज लगातार 6 मैचों में सिर्फ 1 विकेट के लिए तरस गया है.

किसी दूसरी टीम के टॉप क्लास गेंदबाज जैसे कि जोफरा आर्चर या फिर अपने ही ऑस्ट्रेलियाई साथी जेम्स पैटिंसन और नाथन कूल्टर नायल से तुलना तो दूर की बात, अपनी ही टीम के युवा भारतीय पेस शिवम मावी के आंकड़े 2 मैच कम खेलने के बावजूद कमिंस से बेहतर हैं.

मावी ने 6 मैचों में 6 विकेट लिए हैं और उनका इकॉनोमी रेट(8.57 रन प्रति ओवर) कमिंस से (8.62 रन प्रति ओवर) से बेहतर है. ऐसा नहीं है कि कमिंस फॉर्म में नहीं है या फिर उनकी गेंदबाजी में दम नहीं है लेकिन उनकी बॉडी लैंग्वेज से साफ झलक रहा है कि करोड़पति होने का दबाव उन पर असर दिखा रहा है.

एक करोड़पति खिलाड़ी का दर्द

वैसे, आईपीएल में कमिंस इस दबाव में टूटते दिखाई देने वाले पहले खिलाड़ी नहीं है. युवराज सिंह और दिनेश कार्तिक जैसे भारतीय स्टार भी अलग-अलग सीजन में अलग टीमों के लिए ऐसे दबाव से गुजर चुके हैं और ये भी मानने से कभी हिचके नहीं है कि करोड़ों रुपये का दबाव खिलाड़ी पर ना चाहते हुए भी आ ही जाता है. पवन नेगी जैसे युवा खिलाड़ी का हश्र भी हम देख चुके हैं.

सोशल मीडिया के दौर में फैंस के लिए किसी भी खिलाड़ी को ट्रोल करने का ये सबसे घातक हथियार भी होता है. इस बात को राजस्थान रायल्स के जयदेव उनाडकट से बेहतर कौन जान सकता है?

2018 में उनाडकट पर 11.5 करोड़ की बोली लगी थी और उस साल जब जब वो संघर्ष करते उनकी धज्जियां खराब खेल की बजाए ज्यादा पैसे मिलने पर होती जबकि हकीकत ये है कि उनडकट ने तो ये पैसे ऑक्शन में मांगे नहीं थे, टीमों ने उनको शामिल करने के लिए स्वेच्छा से खर्च किए थे.

पिछले 1 दशक में 9 ऑक्शन का हिस्सा होने वाले उनाडकट इकलौते खिलाड़ी है जिसमें वो 5 अलग अलग फ्रैंचाइजी के लिए खेलें हैं. इसका मतलब साफ है कि खराब खेल के बावजूद टीमों ने उन पर दांव खेलना बंद नहीं किया.

ताजा उदाहरण देखिये कि जो गेंदबाज डेथ ओवर्स में रन लुटाने के लिए जाना जाता है उस पर स्टीव स्मिथ ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ मैच में एबी डिविलियर्स के सामने 19वां ओवर थमा दिया. यानि कि योग्यता उनाडकट में है औऱ वो वाकई उनमें है जो रणजी ट्रॉफी में इस साल सौराष्ट्र को चैंपियन बनाने में उन्होंने साबित भी की. लेकिन, वहां पर गेंदबाजी करते हुए करोड़ों रुपये का दबाव नहीं होता और आप सहज हो कर अपना काम कर सकते हैं.

अतीत में कोलिन इंग्राम, टायमल मिल्स और यहां तक बेन स्टोक्स भी इस दबाव के आगे टूट चुके हैं जिसके आगे कमिंस बेबस दिख रहें हैं.

ये अजीब सी विंडबना है कि हर खिलाड़ी का सपना आईपीएल में खेलने का होता है औऱ इसकी बड़ी वजह असाधारण कमाई होती है. लेकिन, यही कमाई जब योग्यता के अनुपात में जरुरत से ज्यादा होने लगती है तो खिलाड़ी चाहे कितना भी बड़ा क्यों ना हो वो इसके दबाव में बिखरने ही लगताहै. अगर कमिंस बाकि के बचे हुए मैचों में अच्छी वापसी करते हैं तो शायद भविष्य में कई करोड़पति बनने वाले खिलाड़ियों के लिए एक नजीर साबित हो सकते हैं.

पढ़ें ये भी: संडे व्यू: राहत पैकेज में कंजूसी चिंताजनक,बढ़ती आबादी घटती बेटियां

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!