मंजूरी के बावजूद डिलीवरी नहीं कर पा रहे हैं ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर
अनुमति के बावजूद परेशानियों का सामना कर रहे ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर
अनुमति के बावजूद परेशानियों का सामना कर रहे ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर(फोटो: क्विंट हिंदी)

मंजूरी के बावजूद डिलीवरी नहीं कर पा रहे हैं ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर

लॉकडाउन के ऐलान के बाद, 25 मार्च को कई ई-कॉमर्स कंपनियों के प्रतिनिधियों ने भारत सरकार के अधिकारियों के साथ ऑनलाइन ग्रॉसरी डिलीवर करने को लेकर मीटिंग की. ग्रॉसरी जरूरी सामानों में से एक है और ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर भी इसी कैटेगरी में आते हैं. इसके बावजूद, खबरें आईं कि कई डिलीवरी एजेंट्स को अधिकारियों ने रोका.

Loading...

पुलिस ने अब ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर के एजेंट्स को 'कर्फ्यू' पास जारी किया है, लेकिन फिर भी कई शहरों में या तो डिलीवरी लेट हो रही है या नहीं हो पा रही है.

26 मार्च को ऑर्डर करने पर 31 मार्च डिलवीरी की सबसे नजदीक डेट
26 मार्च को ऑर्डर करने पर 31 मार्च डिलवीरी की सबसे नजदीक डेट
(फोटो: बिग बास्केट)

बिग बास्केट और ग्रॉफर्स ने डिलीवरी शुरू कर दी है, लेकिन अभी वो 'जनता कर्फ्यू' और फिर लॉकडाउन के बाद आए पुराने ऑर्डर क्लियर करने में ही लगे हैं. लॉकडाउन के पहले दिन, 25 मार्च को ग्रॉफर्स डिलीवरी नहीं कर पा रही थी.

26 मार्च को ऑर्डर करने पर 7 अप्रैल डिलवीरी की सबसे नजदीक डेट
26 मार्च को ऑर्डर करने पर 7 अप्रैल डिलवीरी की सबसे नजदीक डेट
(फोटो: ग्रॉफर्स)

बिग बास्केट ऐप पर 26 मार्च को ग्रॉसरी ऑर्डर करने पर सबसे नजदीक डिलीवरी डेट 31 मार्च की दिखा रहा है. ग्रॉफर्स पर अगर 26 मार्च को ऑर्डर करें, तो डिलीवरी की सबसे जल्द डेट 7 अप्रैल आ रही है. अमेजन पर सबसे ज्यादा ऑर्डर किए जाने वाले आम समानों के भी स्टॉक नहीं है.

दिल्ली और कर्नाटक सरकार ने ग्रॉसरी की होम डिलीवरी की अनुमति दे दी है, लेकिन फिर भी कुछ परेशानी सामने आ रही है.

ये भी पढ़ें : जोमैटो-स्विगी को कई राज्यों में नहीं मिली डिलीवरी की अनुमति

कर्नाटक में ऑनलाइन डिलवरी सर्विस को होम डिलीवरी की अनुमति
कर्नाटक में ऑनलाइन डिलवरी सर्विस को होम डिलीवरी की अनुमति
(फोटो: क्विंट हिंदी)

ग्रॉसरी डिलीवर करने वाले ऐप मिल्क बास्केट ने बताया है कि उनकी सर्विस कुछ जगह शुरू हो गई है.

“हमें ये बताते हुए खुशी हो रही है कि गुड़गांव, नोएडा और बेंगलुरु में हमारी सर्विस शुरू हो गई है. हैदराबाद में हमारी सर्विस अभी भी बंद है. हमें उम्मीद है कि शनिवार/रविवार तक सभी कस्टमर्स के लिए सर्विस शुरू हो जाएगी. हमारी परेशानियों को सुनने और हमारे इंप्लॉइज और वेंडर्स की सुरक्षा मुहैया कराने के लिए अधिकारियों का शुक्रिया.”
मिल्क बास्केट का बयान

अधिकारियों से सामान की डिलीवरी की अनुमति मिलने के बाद अब, ई-कॉमर्स कंपनियों को कोरोनोवायरस महामारी को लेकर डर के माहौल के बीच एक अलग परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

FMCG सेक्टर में काम करने वाले एक शख्स के मुताबिक, अमेजन जैसे ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोरी और रिटेलर्स के वेयरहाउस शहर के बाहर या गांव में होते हैं. ऐसे में कोरोनावायस को लेकर डर के कारण, स्थानीय लोग स्टाफ को वहां जाकर काम करने से रोक रहे हैं.

ऑनलाइन ग्रॉसरी की डिलीवरी को अभी लेकर अपडेट की उम्मीद की जा रही है.

जोमैटो-स्विगी को डिलीवरी की अनुमति नहीं

एक रिपोर्ट के मुताबिक, तमिलनाडु, बिहार, असम, छत्तीसगढ़ और पुडुचेरी में सरकारों ने जोमैटो को लॉकडाउन के दौरान सर्विस बंद करने के लिए कहा है. तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में सर्विस को कंट्रोल करने वाली ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन ने एक ट्वीट में लिखा कि "जोमैटो और स्विगी से सिर्फ कुक्ड फूड की सप्लाई को अनुमति नहीं है."

ये भी पढ़ें : लॉकडाउन में आपकी कार और बाइक न हो जाए बेकार, याद रखिए ये 4 बातें

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our टेक और ऑटो section for more stories.

    Loading...