दुनिया की सबसे तेज रफ्तार बुलेट ट्रेनें यहां चलती हैं


मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट
मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट (Photo: iStockphoto)

दुनिया की सबसे तेज रफ्तार बुलेट ट्रेनें यहां चलती हैं

जापान के पीएम शिंजो आबे के भारत आने के बाद से ही बुलेट ट्रेन चर्चा में है. जापान के सहयोग से मुंबई और अहमदाबाद के बीच भारत की पहली बुलेट ट्रेन चलाए जाने का प्लान बनाया गया है. इसके लिए जापान ने बेहद कम ब्याज पर लोन भी देने का ऐलान किया है.

जापान पिछले 53 सालों से बुलेट ट्रेन सफलता के साथ चला रहा है. पिछले दिनों उसने ताइवान से भी बुलेट ट्रेन का करार किया. लेकिन इंडोनेशिया और थाईलैंड के मामले में चीन ने उसे पछाड़ दिया. चीन की हाई-स्पीड ट्रेनें जापान से काफी सस्ती लागत पर उपलब्ध थीं.

खैर अब जापान ने भारत में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट में कामयाबी पा ली है. यहां हम आपको बताएंगे दुनिया की सबसे तेज चलने वाली ट्रेनें.

शंघाई मैग्लेव- 430 किलो मीटर प्रति घंटा

केवल 30 किलो मीटर की दूरी तय करने वाली शंघाई मेगलेव मात्र सात मिनट में अपनी यात्रा पूरी कर लेती है. ट्रेन शंघाई पुडोंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट से लोंगयांग मेट्रो स्टेशन को जोड़ती है. इसके टिकट की कीमत काफी सस्ती (8 डॉलर) है.

हार्मनी CRH380A- 354 किलो मीटर प्रति घंटा

चीन में ही चलने वाली यह ट्रेन मैगलेव के बाद रफ्तार के मामले में दूसरे नंबर पर है. 2010 से चालू हुई यह ट्रेन, शंघाई को नानजिंग शहर से जोड़ती है. आजकल इसके एडिशनल रूट भी चालू किए गए हैं, इसके तहत ये वुहान को ग्वांगझू से जोड़ती है.

ट्रेनिटेलिया फ्रेक्किअरोसा- 354 किलो मीटर प्रति घंटा

इटली के रेड एरो के नाम से मशहूर यह ट्रेन यूरोप की सबसे तेज ट्रेन है. यह मिलान से फ्लोरेंस या रोम की दूरी केवल तीन घंटे में पूरी कर लेती है. यह 2015 में चालू हुई है.

रेनफे AVE -349 किलो मीटर प्रति घंटा

स्पेन की इस सबसे तेज ट्रेन को सीमेन्स ने डिजाइन किया है. इसका मॉडल वेलेरा-ई है. यह स्पेन के बड़े शहरों के बीच चलती है. इसके अलावा ये बर्सिलोना को फ्रांस से भी जोड़ती है.

ड्यूशबेह्न ICE- 330 किलो मीटर प्रति घंटा

यह जर्मनी की सबसे तेज ट्रेन है. इसकी खास बात है कि यह चैनल टनल में भी चल सकती है. भविष्य में जर्मनी इसे फ्रैंकफर्ट से लंदन के बीच चलाना चाहता है. फिलहाल ये जर्मनी के अंदर ही चलती है.

हायाबूसा शिंकेनसेन E5- 200

जापान की शिंकेनसेन पहली बुलेट ट्रेन है. खास बात यह है कि जापान 1964 से ही इसे चला रहा है. यह ट्रेन शुरूआत में टोकियो से ओसाका के बीच चलती थी. केवल चार घंटे में यह ट्रेन अपनी जर्नी पूरी कर लेती है. अब यह ट्रेन नए एक्सटेंशन के साथ शिन-हाकोडेट-होकुतो के बीच भी चलती है.

यही शिंकनसेन भारत लाई जा रही है.